स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

JLF 2020: शशि थरूर बोले, दो राष्ट्र की सोच सावरकर और हिन्दू महासभा की

kamlesh sharma

Publish: Jan 24, 2020 19:54 PM | Updated: Jan 24, 2020 19:54 PM

Jaipur

पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद शशि थरूर ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में केंद्र सरकार के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दो राष्ट्र की सोच किसी और की नहीं, बल्कि सावरकर और हिन्दू महासभा की थी।

अश्विनी भदौरिया/जयपुर। पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद शशि थरूर ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में केंद्र सरकार के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दो राष्ट्र की सोच किसी और की नहीं, बल्कि सावरकर और हिन्दू महासभा की थी। मुस्लिम लीग की ओर से की गई दो राष्ट्रों की मांग से कुछ साल पहले ही सावरकर और हिन्दू महासभा यह मांग कर चुके थे। थरूर ने कहा कि 1922 में सावरकर ने हिन्दुत्व का प्रचार-प्रसार करना शुरू किया। उन्होंने कहा कि देश का बंटबारा धर्म के आधार पर हुआ था। पाकिस्तान मुस्लिमों के लिए और हमारे यहां कोई धर्म नहीं होगा। जब देश आजाद हुआ तो हिन्दुत्व को मानने वाले लोग देश हिन्दुओं के अलावा बुद्ध और जैन का ही मानते थे। मुस्लिम और क्रिश्चियन को अपना नहीं मानते थे। हिन्दुत्व मूवमेंट जैसे-जैस आगे बढ़ा, इन लोगों ने संविधान को नकारने का काम किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए थरूर ने कहा कि वे भी दीनदयाल उपाध्याय की बताए मार्ग पर चल रहे हैं। उपाध्याय तो मुस्लिम के उस विचार से सहमत थे तो धर्म के आधार पर देश बनाना चाहते थे। बस, ये दूसरे धर्म के आधार पर देश बनाना चाहते हैं। भाजपा को लेकर उन्होंने कहा कि 70 साल से हम एक थे। पूरा देश एक ही है। एक पार्टी उत्तर-पूर्वी राज्यों में बढ़त पाती है और दक्षिण में बेहतर नहीं कर पाती। ये एकता में विश्वास नहीं रखती। भाजपा मुस्लिमों को लेकर असहिष्णु है। इतिहास दुबारा लिखना चाह रही है।

गांधी जी के चश्मे का कर रहे इस्तेमाल
महात्मा गांधी की हत्या आरएसएस के ही एक पूर्व सदस्य ने की थी, जो सोचता था कि गांधी जी का झुकाव हिन्दुओं की तुलना में मुस्लिमों की ओर अधिक है। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने कभी एक धर्म को प्राथमिकता नहीं दी। गांधी जी सभी के थे और सभी गांधी जी के थे। मोदी और उनके लोग संघ विचारधारा के हैं, जिन्होंने गांधी के बारे में सब कुछ गलत पढ़ाया है। गोलवरकर कहते थे कि हर हिन्दू भगवान के पास शस्त्र है और गांधी ने हमेशा अहिंसा का पाठ पढ़ाया। आज स्वच्छ भारत अभियान में ये लोग गांधी जी के चश्मे का उपयोग कर रहे हैं।

तो शिफ्ट हो जाएंगी दक्षिण की 40 लोकसभा सीटें
देश के राजनीति पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि वित्त आयोग में टैक्स का आधार अब तक 1971 की जनगणना थी, जिसे सरकार ने बढ़ाकर 2011 की जनगणना कर दिया। उसके कारण दक्षिण राज्यों को कम टैक्स मिलेगा और उत्तर भारत के राज्यों को ज्यादा टैक्स मिलेगा। अब 2021 में जनगणना होगी तो केरल देश का ऐसा पहला राज्य होगा, जहां आबादी कम होगी। इतना ही नहीं, दक्षिण के अन्य राज्य राज्यों में भी आबादी एक से डेढ़ फीसदी तक ही बढ़ेगी। जिस तरह से उत्तर भारत में आबादी बढ़ रही है, आने वाले कुछ सालों में दक्षिण भारत की 40 सीटें उत्तर भारत की ओर शिफ्ट हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि यदि हिन्दुत्व का एजेंडे ने उत्तर भारत में राजनीतिक रंग पकड़ा तो देश का भविष्य अच्छा नहीं होगा।

[MORE_ADVERTISE1]