स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पाम ऑयल में कैमिकल और एसेंस मिलाकर बनाते देशी घी, सड़े गले कद्दू में रंग डालकर बनाया सॉस

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Oct 09, 2019 19:57 PM | Updated: Oct 09, 2019 19:57 PM

Jaipur

पुलिस और चिकित्सा विभाग की कार्रवाई, ब्रांड का रैपर लगाकर रहे थे सप्लाई, नकली घी ले जाते दो गिरफ्तार, सड़े गले कद्दू में रंग मिलाकर बनाते थे सॉस

जयपुर। जयपुर से नकली घी लेकर ग्रामीण इलाकों में सप्लाई के लिए ले जा रहे दो जनों को हरमाड़ा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। थानाधिकारी रमेश सैनी ने बताया कि मंगलवार रात को सीकर रोड पर नाकाबंदी के दौरान एक पिकअप गाड़ी पकड़ी थी। उसमें कृष्णा घी ब्रांड के रैपर लगे 9 पीपे घी के रखे थे। घी की जांच कराई तो वह नकली निकला। रसद विभाग को भी सैम्पल उपलब्ध कराए हैं। मामले में पुलिस ने झुंझुनूं निवासी छोटेलाल व हरमाड़ा निवासी मुकेश को गिरफ्तार किया है।

प्रारंभिक पूछताछ में पता चला कि शहर में अलग-अलग जगह से पाम ऑयल के पीपे खरीदकर उसके ढक्कन खोलकर घी की खुशबू के लिए कैमिकल एसेंस मिला देते हैं। उन पीपों पर कृष्णा घी ब्रांड का रैपर लगा देते हैं। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर मिलावट करने वालों का पता लगा रही है।

सड़े कद्दू से बना रहे थे सॉस, जब्त
चिकित्सा विभाग की केन्द्रीय टीम ने मंगलवार को मुहाना मंडी में मिलावटी खाद्य सामग्री रोकथाम अभियान के तहत कार्रवाई की। यहां 3678 किलो सॉस जब्त कर मौके से तीन जांच नमूने लिए गए हैं। टीम ने मुहाना मंडी स्थित आकांक्षा एंटरप्राइजेज पर यह कार्रवाई की। इस संस्थान में अनहाइजीनिक स्थिति में सड़े गले कद्दू में रंग मिलाकर सॉस बनाया जा रहा था। मौके पर मौजूद करीब 500 किलोग्राम कद्दू नष्ट कराया गया। चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर विभाग के अधिकारी इन दिनों मिलावटी वस्तुओं के उत्पादकों व विक्रेताओं पर यह कार्रवाई कर रहे हैं।

सेहत को नुकसान होने या मिलावट की पुष्टि होने पर दर्ज करवा सकते हैं परिवाद

कंज्यूमर एक्शन एंड नेटवर्क सोसायटी केन्स के संस्थापक अनंत शर्मा के अनुसार किसी खाद्य सामग्री का सेवन करने से आपकी सेहत को नुकसान हुआ, तो शिकायत की जा सकती है।

मिलावट दिखे तो यहां करें शिकायत
कंज्यूमर फोरम हेल्पलाइन 1800114000 पर फोन करके शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। निकटतम उपभोक्ता मंच में मिलावटी सामग्री के संदर्भ में लिखित शिकायत दी जा सकती है।