स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डीजल तेल पाइप लाइन से डीजल चुराने वाला मुख्य आरोपी गिरफ्तार

Lalit Tiwari

Publish: Sep 22, 2019 19:30 PM | Updated: Sep 22, 2019 19:30 PM

Jaipur

हिन्दुस्तान पेट्रोलियम की डीजल तेल पाइप लाइन से डीजल चुराने के मामले में हरमाड़ा और चौमूं पुलिस ने मास्टर माइंड सरदार स्वर्ण सिंह को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी तीन माह से फरार चल रहा था और पुलिस को उसे पकडऩे में सफलता नही मिल रही थी। पूछताछ में हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के पूर्व कर्मचारी की संलिप्तता सामने आ रही है।

हिन्दुस्तान पेट्रोलियम की डीजल तेल पाइप लाइन से डीजल चुराने के मामले में हरमाड़ा और चौमूं पुलिस ने मास्टर माइंड सरदार स्वर्ण सिंह को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी तीन माह से फरार चल रहा था और पुलिस को उसे पकडऩे में सफलता नही मिल रही थी। पूछताछ में हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के पूर्व कर्मचारी की संलिप्तता सामने आ रही है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। डीसीपी (पश्चिम) विकास कुमार ने बताया कि हिन्दुस्तान पेट्रोलियम की पाइप लाइन से डीजल चुराने के मामले में पुलिस लखनऊ निवासी अंकित दुबे, बलजीत सिंह उर्फ जीत विक्रम सिंह को भी गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा अन्य आरोपी अरविंद शर्मा, अरविन्द चौधरी, राहुल देव शर्मा, जितेन्द्र सिंह को भी गिरफ्तार किया गया। इनसे पूछताछ में सरदार स्वर्ण सिंह का नाम सामने आया जो डीजल पाइप चोरी करने का आदतन अपराधी है। आरोपी भरात में कई जगह डीजल चोरी की वारदात को अंजाम दे चुका है। सरगना स्वर्ण सिंह भूमिगत हो गया था और अपने समस्त प्रकार के मोबाइल बंद करके दिल्ली में बार बार अपने ठिकानों को बदलता रहा। इसके अलावा अमृतसर, लुधियाना आदि जगह भी छिपता रहा। आरोपी की तलाश में मुरलीपुरा की टीम को भेजा गया था, लेकिन ठिकाना बदलने की वजह से कामयाबी नही मिल पाई थी। जिला पश्चिम के साइबर सेल की तकनीकी विशेषज्ञ कांस्टेबल लक्ष्मीकांत की गहरी नजर थी। इस बार पुलिस टीम आरोपी को पकडऩे के लिए दिल्ली भेजा गया। इस बार टीम ने सूझबूझ ते साथ काम करते हुए डीजल चोरी के मुख्य सरगना स्वर्ण सिंह को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पहले ट्रक चालक था और अपने मालिक की नजर बचाकर ट्रकों से डीजल चोरी करके बेचता था। एक बार में 100 से 150 लीटर डीजल चोरी करके बेच देता था। धीरे धीरे वह डीजल चोरी से जुड़े हुए लोगों से सम्पर्क में आ गया। डीजल चोरी के आरोप में वर्ष 1992 में पहली बार तिहाड़ जेल गया था, तबसे वह डीजल चोरी की अपराध की दुनिया का मास्टर माइंड बन गया। राजस्थान के अलावा उसने हरियाणा, दिल्ली और पंजाब में भारत सरकार की तेल पाईप लाइनों से डीजल चोरी की वारदात करना स्वीकार किया है।