स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राष्ट्रपति शासन से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला, हम सरकार बना लेंगे

Umesh Sharma

Publish: Nov 12, 2019 22:22 PM | Updated: Nov 12, 2019 22:22 PM

Jaipur

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन ( Prsidential Rule In Maharashtra ) लागू हो गया है, मगर महाराष्ट्र के कांग्रेस विधायक ( Maharashtra Congress Mla ) पांचवें दिन भी जयपुर में ही अटके रहे। दोपहर में जैसे ही राष्ट्रपति शासन लागू होने की सूचना मिली, इसके बाद एक दर्जन से ज्यादा विधायक जयपुर भ्रमण और आसपास के क्षेत्रों में घूमने निकल गए। वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Cm Ashok Gehlot ) भी रात को विधायकों से मिलने रिसॉर्ट में पहुंचे।

जयपुर।

maharashtra political crisis महाराष्ट्र से कांग्रेस विधायक विजय वडेट्टीवार और केसी पड़वी ने मीडिया के बीच आकर बयान दिया। वडेट्टीवार ने कहा कि राष्ट्रपति शासन लगने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। छह महीने का समय राष्ट्रपति शासन लगने के बाद भी सरकार बनाने के लिए होता है। आलाकमान से ग्रीन सिग्नल मिल गया है और कांग्रेस कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत सरकार बना लेगी। विधायक केसी पड़वी ने राष्ट्रपति शासन लगने के लिए भाजपा को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि बीजेपी की गलती से राष्ट्रपति शासन लागू हो रहा है। इसकी जिम्मेदारी भाजपा की है। शिवसेना ने अपना दावा पेश करते हुए ज्यादा समय की मांग की थी।

मैजिक फिगर मिलते ही सरकार बनाएंगे

कांग्रेस विधायक केसी पड़वी ने बताया कि सरकार बनाने का सोनिया गांधी ने ग्रीन सिग्नल दिया है। शिवसेना ने एनडीए से नाता तोड़ लिया है और अब विचारधारा की कोई दिक्कत नहीं है। शिवसेना उनको समर्थन दे रही है, जैसे ही मैजिक फिगर आएगा। हम महाराष्ट्र में सरकार बनाएंगे।

दिनभर रही गहमागहमी

महाराष्ट्र में चल रही सियासी गर्मी के बीच आमेर स्थित रिसोर्ट जहां महाराष्ट्र कांग्रेस विधायकों को ठहराया गया था, वहां दिनभर गहमागहमी रही। राष्ट्रपति शासन की घोषणा होने से पहले सभी विधायक रिसोर्ट के अंदर ही रहे। जैसे ही राष्ट्रपति शासन की सूचना मिली, कुछ विधायक रिसोर्ट की छत पर आ गए और विक्ट्री का साइन दिखाने लगे। कुछ विधायक रिसोर्ट के पोर्च में आए और वाहनों से शहर भ्रमण के लिए निकल गए। किसी भी विधायक ने मीडिया से बात नहीं की।

पांडे ने बताया सभी को गांधी का निर्णय

प्रभारी अविनाश पांडे दोपहर में रिसोर्ट पहुंचे। उनके साथ कुछ वरिष्ठ कांग्रेस विधायक भी साथ थे। पांडे ने रिसोर्ट पहुंचकर विधायकों को आलाकमान के निर्णय के बारे में बताया। विधायकों को आगे की रणनीति के संबंध में भी जानकारी दी गई। इसके बाद कुछ विधायक रिसोर्ट से रवाना हो गए।

रात को रिसोर्ट पहुंचे सीएम

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रात के वक्त रिसोर्ट पहुंचे। सीएम यहां लंबे समय तक रुके और विधायकों से मुलाकात की। रात को सभी विधायक वापस रिसोर्ट लौट चुके थे। गहलोत ने पांडे से भी महाराष्ट्र के सियासी हालातों को लेकर चर्चा की।

[MORE_ADVERTISE1]