स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिरला हुए नाराज, कहा: रोज माफी मांगना ठीक नहीं, माफी मुझसे मंगा लीजिए, लेकिन गलत मत बोलिए

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Dec 06, 2019 18:55 PM | Updated: Dec 06, 2019 18:55 PM

Jaipur

लोकसभा में बलात्कार की घटनाओं को लेकर हुए हंगामे से हुए व्यवधान से अध्यक्ष ओम बिरला हुए दुखी, सांसदों से कहा: माफी मुझसे मंगा लीजिए, सदन में गलत मत बोलिए

शादाब अहमद / नई दिल्ली। लोकसभा ( Lok Sabha ) में बलात्कार की घटनाओं को लेकर हुए हंगामे से हुए व्यवधान से अध्यक्ष ओम बिरला ( Lok Sabha Speaker Om Birla ) खासे दुखी हुए। सांसदों को समझाइश करते हुए उन्होंने यहां तक कह दिया कि माफी मुझसे ही मंगा लिया करो, लेकिन सदन में गलत मत बोला करो। रोज गलत बोलकर माफी मांगने की परम्परा ठीक नहीं है।

अध्यक्ष बिरला सदन में कुछ सांसदों के व्यवहार से खासे नाराज दिखे। कांग्रेस ( Congress ) के गौरव गोगोई हंगामे को लेकर सफाई दे रहे थे। गोगोई ने कहा कि विपक्ष चाहता था कि उन्नाव मामले में सरकार जवाब दें। इसके बदले में सरकार की ओर से आक्रमक भाषा और राजनीतिक टिप्पणी आई। इसका कांग्रेस सांसदों ने खड़े होकर विरोध किया। इस पर बिरला ने पूछा कि राजनीतिक टिप्पणी के बाद किसी सदस्य का वेल में आकर धमकाना कहां तक ठीक है।

उन्होंने कहा कि एक आचार संहिता बननी चाहिए, गंभीर टिप्पणी का जवाब गंभीर टिप्पणी से करें और असंसदीय होगा तो इसको रिकॉर्ड में नहीं जाने की जिम्मेदारी मेरी होगी, लेकिन राजनीतिक टिप्पणी के बाद वेल में आएं ऐसा नहीं करना चाहिए। पहले भले ही ऐसा होता होगा, लेकिन अब सभी से उम्मीद है कि वे ऐसा नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें : लोकसभा में दिखने लगी राजस्थान के बिड़ला की छाप, बढ़ी काम की रफ्तार, दो दिन में लिए 18 सवाल

नहीं तो सदन से बाहर कर देंगे

बिरला जिस दौरान सांसदों को समझा रहे थे, उसी समय एक सांसद ने कुछ टिप्पणी की। इसके जवाब में बिरला ने कहा कि आप मुझे बैठे-बैठे आदेश मत दिया करें, इनको बुला लो ...उनको बुला लो। बैठकर आदेश देने की व्यवस्था को बंद कर दो, नहीं तो मैं आपको सदन से बाहर निकालने के लिए कह दूंगा।

यह भी पढ़ें : बिरला की लोकसभा में पहल: नए सांसदों को मौका देने के लिए शून्यकाल को चलाया ढाई घंटे, 49 ने रखी अपनी बात

[MORE_ADVERTISE1]