स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पिछले 5 साल में एलइडी के कारण​ इतनी बिजली और पैसे बचे, जितने आप सोच भी नहीं सकते, जानिए

Pawan kumar

Publish: Sep 17, 2019 10:04 AM | Updated: Sep 17, 2019 10:04 AM

Jaipur

- देशभर में लगे 36 करोड़ एलइडी बल्ब, 42,500 करोड़ रूपए की बचत

- एलइडी लाइट्स के कारण बची 8,500 मेगावॉट बिजली

- जयपुर में एलइडी से बचे 1 करोड़ से ज्यादा

जयपुर। महंगी बिजली के इस दौर में एलइडी बल्ब विद्युत बचत के बेहतर विकल्प साबित हो रहे हैं। बीते 5 साल में देशभर में 36 करोड़ बल्ब और 96 लाख स्ट्रीट लाइट्स को एलइडी में बदला जा चुका है। इसका असर ये हुआ है कि अब तक करीब 8,500 मेगावॉट बिजली की बचत हो चुकी है। साढ़े 8 हजार मेगावॉट बिजली कम खपत हुई है, इससे 42,500 करोड़ रूपए की बचत हुई है। ये सकारात्मक तस्वीर सामने आई है सार्वजनिक उपक्रम एनर्जी एफिसिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (इइएसएल) के आंकड़ों में।


जानकारी के अनुसार जयपुर विकास प्राधिकरण में ऊर्जा संरक्षण एवं बचत के विषय पर जेडीए अधिकारियों—कर्मचारीयों की कार्यशाला हुई। जिसमें इइएसएल के चीफ जनरल मैनेजर जसपाल सिंह ने बताया कि एलइडी लाइट्स के कारण बिजली की बचत का आंकड़ा इतना है कि उसे देखकर हर कोई हैरान होता है। बीते 5 साल में 8,500 मेगावॉट बिजली की बचत सिर्फ एलइडी बल्ब और लाइट्स से हुई है। इसके कारण 42,500 करोड़ रूपए बचे हैं। जब एलइडी लाइट्स लगना शुरू हुई थी, तब शायद ही किसी ने सोचा होगा कि इतना बड़ा बदलाव आएगा। यदि ऊर्जा संरक्षण एवं बचत के लिए प्रत्येक व्यक्ति एवं संस्था को जागरूक किया जाए, तो बिजली बचत का आंकड़ा बढ़ भी सकता है।

दुनिया में सिर्फ 45 साल का पेट्रोलियम
जसपाल ने बताया कि दुनिया में जो पेट्रोल-डीजल उपलब्ध है, दुनिया में वो सिर्फ 45 साल तक ही उपयोग लाया जा सकेगा। परम्परागत ऊर्जा के स्त्रोत कोयला, गैस और तेल आदि भी 200 सालों तक ही उपलब्ध रहेंगे। इसलिए हमें अक्षय ऊर्जा स्त्रोतों सोलर, वायु एवं हाइड्रो पर जाना होगा। यदि हम ऊर्जा का संरक्षण एवं बचत नहीं करेंगे और उर्जा नवीनीकरण संसाधनों का प्रयोग नहीं करेंगे तो आने वाली पीढ़ियों के लिए विकराल समस्या बन जाएगी।

350 का एलइडी बल्ब अब 35 का
इइएसएल के चीफ जनरल मैनेजर ने बताया कि 9 वाॅट के एक एलइडी बल्ब की लागत पहले 350 रूपए आती थी, जो अब घटकर 35-40 रूपए हो गई है। 9 वाॅट की एलईडी बल्ब की रोशनी 100 वाॅट के साधारण बल्ब के समान ही होती है। कार्यशाला में पुराने पंखे, लाइट्स, एयर कंडीशनर और मोटर्स समेत अन्य उपकरणों को एनर्जी इफिशिएसी उपकरणों से बदलने के फायदे भी बताए।

जयपुर में एलइडी से बचे 1 करोड़

जयपुर शहर की स्ट्रीट लाइट्स को एलइडी से बदला जा रहा है। कई प्रमुख मार्गों पर एलइडी लाइट्स लगाई जा चुकी हैं। जानकारी के अनुसार शहर में अब तक 1 लाख से ज्यादा एलइडी लाइट्स लग चुकी हैं। सड़कों पर एलइडी लाइट्स लगने से अब तक एक करोड़ रूपए से ज्यादा की बचत हो चुकी है। नगर निगम शहर में इइएसएल के सहयोग से ढाई लाख एलइडी लाइट्स लगा रहा है। कुछ महीनों में सभी जगहों पर एलइडी लाइट्स लगा दी जाएंगी। इससे हर साल बिजली बिल के पेटे होने वाली बचत की राशि भी बढ़ जाएगी। जेडीए भी अपने क्षेत्राधिकार वाले इलाकों में एलइडी बल्ब लगा रहा है।