स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अवैध निर्माण तोडऩे का खर्च भी निर्माणकर्ता से वसूलेगा जेडीए

Abhishek Vyas

Publish: Nov 18, 2019 00:06 AM | Updated: Nov 18, 2019 00:06 AM

Jaipur

जेडीए ने अवैध निर्माण ध्वस्त करने के साथ ही आर्थिक सख्ती करना भी शुरू कर दिया है।


जयपुर। जेडीए ने अवैध निर्माण ध्वस्त करने के साथ ही आर्थिक सख्ती करना भी शुरू कर दिया है। जेडीए की प्रवर्तन शाखा ने अवैध निर्माण को ध्वस्त करने का पूरा खर्चा अवैध निर्माणकर्ता से वसूलना शुरू कर दिया है। अभी तक दो अवैध निर्माणकर्ताओ को रिकवरी नोटिस देकर 20 लाख रुपए से ज्यादा की राशि वसूली है।
प्रवर्तन शाखा के अफसरों के अनुसार अब तक अवैध निर्माण को ही ध्वस्त किया जाता था। अवैध निर्माणकर्ता को किसी तरह का रिकवरी नोटिस नहीं दिया जाता था। अब इन निर्माण को ध्वस्त करने के लिए जेसीबी सहित अन्य मशीन और दस से पन्द्रह मजदूर की जरूरत होती है। साथ ही प्रवर्तन शाखा के पुलिसकर्मी, जेडीए के सुरक्षाकर्मी भी इनमें होते हैं।

प्रवर्तन शाखा के अनुसार इस पूरे लवाजमें पर प्रतिदिन का हजारोंं रुपए का खर्च होता है। अब अवैध निर्माणकर्ता को ये खर्च अपने जेब से दना है। अवैध निर्माण को ध्वस्त करने करने के प्रवर्तन शाखा की टीम पृथ्वीराज नगर साउथ में गई थी। वहां सरस्वती एनक्लेव में अवैध निर्माण ध्वस्त किया था। उसे 4 लाख रुपए की रिकवरी का नोटिस दिया था।

इसी तरह दिल्ली रोड पर एक कॉलेज में अवैध निर्माण तोड़ा गया। वहां से भी रिकवरी नोटिस के जरिए अवैध निर्माणकर्ता से 17 लाख रुपए से ज्यादा की राशि वसूली गई।

[MORE_ADVERTISE1]