स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बजरी खनन रोकने गई टीम के पीछे जेसीबी लेकर दौड़ा जेसीबी चालक, ये हाल कर दिया फिर

Jayant Sharma

Publish: Oct 23, 2019 11:59 AM | Updated: Oct 23, 2019 11:59 AM

Jaipur

JCB driver about JCB behind the team stopping gravel mining, resigned

जयपुर. Bhilwara भीलवाड़ा के जहाजपुर में खनन विभाग की टीम पर खनन कर रहे लोगों ने हमला बोल दिया। उनके वाहनों के शीशे तोड़ दिए और उन पर (Stone pelting) पत्थरबाजी कर दी। इसी बीच जेसीबी चालक ने अपनी जेसीबी उनके वाहनों की ओर मोड़ दी और उनको दौड़ा दिया। बाद मे जब खनन विभाग की टीम के साथ अन्य लोग पहुंचे तब जाकर खनन करने वाले भाग गए। खनन विभाग ने कार्रवाई करते हुए सात ट्रक बजरी से भरे हुए और करीब तीस ट्रक बजरी का स्टॉक जब्त कर लिया। खनन विभाग की टीम के साथ पटवारी और तहसीलदार भी थे। मिली जानकारी के अनुसार भरनी खुर्द कस्बे में खनन विभाग और अन्य प्रशासनिक अफसर कार्रवाई करने गए थे।

वहां पर बजरी का ट्रकों में भरने का काम चल रहा था। करीब बीस से भी ज्यादा खनन करने वालों की टीम मौके पर थी। जिनमें सात से ज्यादा ट्रक और दो जेसीबी भी थीं। जैसे ही खनन विभाग की टीम पहुंची तो टीम पर पत्थरबाजी कर दी गई। टीम के साथ ही वहां पर मौजूद पटवारी, गिरदावर और तहसीलदार भी आ गए। उन्होनें खनन करने वालों को रोकना चाहा तो इसी दौरान मनोज मीणा नाम के जेसीबी चालक ने उनकी ओर जेसीबी मोड दी और उनको करीब पांच सौ मीटर तक दौड़ा दिया। इस दौरान खनन कर रहे अन्य लोग सरकारी वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए भाग गए। बाद में जेसीबी चालक भी जेसीबी लेकर भाग गया। खनन और प्रशासनिक अमले को मौके से ट्रक और बजरी का स्टॉक मिला, जिसे जब्त कर लिया गया। घटना आज सवेरे की बताई जा रही है।

इस साल 70 से भी ज्यादा हुए हमले
वसूली और खनन के इस खेल में इस साल ही सत्तर से ज्यादा हमले हो चुके हैं। बहुत सी जगह पुलिस और अन्य एजेंसियों की भी लिप्तता पाई गई है। बजरी खनन का खेल और वसूली का मामला तो इतना बढ़ा कि डीजीपी भूपेन्द्र सिंह को एक्शन लेते हुए पुलिस की दखल ही खत्म करनी पड गई। डीजीपी ने आदेश निकाल दिए कि पुलिस जब तक खनन नहीं रोकेगी तब तक खनन रोकने के जिम्मेदार विभाग लिखित में पुलिस की मदद नहीं मांग लेते। इस साल सबसे ज्यादा हमले के मामले भरतपुर संभाग में सामने आए हैं। उदयपुर संभाग में भी खनन माफिया का राज रहा है। जयपुर में भी खनन विभाग के हमले और सांठगांट की कई खबरें सामने आ चुकी हैं।