स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जन्माष्टमी 23 या 24 अगस्‍त को, जानिए राजस्थान में किस दिन मनाई जाएगी

Santosh Kumar Trivedi

Publish: Aug 20, 2019 10:25 AM | Updated: Aug 20, 2019 10:30 AM

Jaipur

Janmashtami In Rajasthan: कन्हैया का जन्मोत्सव छोटी काशी में भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी को भक्तिभाव एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। इसके लिए मंदिरों में साफ-सफाई व सजावट का कार्य शुरू हो गया है।

जयपुर। Janmashtami In Rajasthan: कन्हैया का जन्मोत्सव छोटी काशी में भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी को भक्तिभाव एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। इसके लिए मंदिरों में साफ-सफाई व सजावट का कार्य शुरू हो गया है।

 

24 अगस्त को मनाया जाएगा कृष्ण जन्मोत्सव :
इस बार कृष्ण जन्मोत्सव 24 अगस्त को मनाया जाएगा। इसके अगले दिन 25 अगस्त को मंदिरों में नंदोत्सव का आयोजन होगा। कृष्ण जन्मोत्सव से तीन दिन तक शहर में उल्लास का महौल छाया रहेगा।

 

ठाकुरजी की मनमोहक झांकियां सजाई जाएगी:
इस मौके पर छोटी काशी के छोटे-बडे सभी मंदिरों में कई धार्मिक आयोजन होंगे। ठाकुरजी की मनमोहक झांकियां सजाई जाएगी एवं मध्यरात्रि में पंचामृत अभिषेक किया जाएगा। अगले दिन मंदिरों में नंदोत्सव मनाया जाएगा। उत्सव को लेकर मंदिरों में रंग-रोगन, साफ-सफाई व सजावट का काम शुरू हो गया है।

 

भक्तों ने भक्ति संगीत का पूरा आनंद उठाया:
गोविन्द देवजी के मंदिर ( Govind Dev Ji Temple Jaipur ) में कृष्ण जन्मोत्सव में चल रहे भक्ति संगीत कार्यक्रम में श्री राधा गोविन्द कृपा प्रभात फेरी मंडल की ओर से मनभावन भजनों की प्रस्तुतियां दी गई। भक्तों ने भक्ति संगीत का पूरा आनंद उठाया। आज शाम ब्रजसुर मंडल की ओर से राधा बल्लभ सक्सेना के निर्देशन में कृष्णलीला की प्रस्तुति होगी। ब्रज से आए कलाकार भगवान कृष्ण की लीलाओं का सजीव प्रदर्शन करेंगे।

 

व्रत रखने से मिलता है कई व्रतों का फल:
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन लोग व्रत और पूजापाठ करते हैं। मान्यता है कि यह त्योहार मनाकर हर मनोकामना पूरी की जा सकती है। जिन लोगों का चंद्रमा कमजोर हो वे लोग भी इस दिन विशेष पूजा करके लाभ की प्राप्ति कर सकते हैं। इस दिन श्रीकृष्ण की पूजा करने से संतान प्राप्ति, दीर्घायु तथा सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। ऐसी मान्यता है कि इस एक दिन व्रत रखने से कई व्रतों का फल मिल जाता है।