स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कश्मीर से शुरू हुई थी जेटली की 'लव स्टोरी'

Kartik Sharma

Publish: Aug 25, 2019 09:59 AM | Updated: Aug 25, 2019 09:59 AM

Jaipur

कहते है पति की कामयाबी के बीचे उसकी पत्नी का सहयोग जरूरी होता है.और ऐसा ही सहयोग था अरुण जेटली की पत्नी संगीता जेटली का.जेटली की पत्नी संगीता जेटली हमेशा उनकी सफलता के पीछे रहीं. उन्होंने कई मंचों से अपनी पत्नी के सहयोग की बात स्वीकार की. वहीं संगीता भी पति के साथ हमेशा हर मौके पर पीछे खड़ी रही. लेकिन क्या आपको बता दे जेटली का ससुराल कहा है.

अरुण जेटली की पत्नी संगीता जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की रहने वाली है. उनकी पत्नी संगीता जम्मू और कश्मीर के 26 साल वित्त मंत्री रहे गिरधारी लाल डोगरा की बेटी थीं. उनके पिता पुराने कांग्रेसी नेता थे. गिरधारी लाल की लोकप्रियता के चलते लोग उन्हें 'द पीपुल्स मैन' कहते थे.

बात साल 2014 की है. अरुण जेटली जब अपना बजट भाषण पढ़ रहे थे. तब उनकी पत्नी उन्हें लोकसभा की गैलरी से स्क्रीन पर लाइव कार्यक्रम देख रही थीं.

अचानक जेटली असहज हो गए और पानी का गिलास पकड़ लिया. सबके लिए वो सामान्य बात थी, लेकिन संगीता बहुत घबरा गई थीं. अरुण जेटली उस वक्त भयंकर कमर के दर्द से जूझ रहे थे, वही दर्द उनकी पत्नी ने बाहर से पढ़ लिया था.


बता दें कि उस दिन तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को लोकसभा में बजट भाषण देते हुए पीठ दर्द की शिकायत हुई थी. तभी भाषण शुरू करने के करीब 45 मिनट बाद लोकसभा अध्यक्ष से 5 मिनट के ब्रेक की अनुमति ली थी.बाद में मीडिया से बातचीत में संगीता जेटली ने बोला भी कि पति की हर तकलीफ का अहसास उन्हें पहले हो जाता है. संगीता जेटली और अरुण जेटली के आपसी तालमेल के ऐसे किस्से अक्सर मीडिया में छपते रहे.

2018 बजट के बाद भी मीडिया के सामने वो पति के काम से काफी खुश नजर आ रही थीं. जेटली को जानने वाले करीबी दोनों की आपसी समझ की हमेशा नजीर देते थे .साल 2018 में जब वित्त मंत्री के तौर अरुण जेटली ने आम बजट पेश किया तो मीडिया ने उनकी पत्नी से सवाल किए. एक सवाल करते हुए मीडिया ने पूछा कि "आप दस में से कितने नंबर देंगी"? इस पर संगीता ने जवाब देते हुए कहा मैं 9 नंबर दूंगी. एक नंबर यानी 10 फीसदी नंबर काटने की बात मीडिया की सुर्खियों में रही. हालांकि उन्होंने कहा कि वो एक नंबर मानवीय भूल का है.