स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिला प्रमुख जयपुर को नहीं मिला रहा हाथ का साथ

Surendra Kumar Samaria

Publish: Aug 14, 2019 18:58 PM | Updated: Aug 14, 2019 18:58 PM

Jaipur

Zila Parishad Jaipur में 5 माह बाद Wednesday को बुलाई गई साधारण सभा कोरम अभाव में स्थगित हो गई। कांग्रेस के जिला प्रमुख की अध्यक्षता में बैठक में Congress के भी सदस्यों की अनुपस्थिति रही। वहीं, सभा का बहिष्कार करने वाले Amer jaipur MLA सतीश पूनियां ने जिला प्रमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।

Moolchand Meena Zila Pramukh Jaipur भले ही BJP छोड़ कांग्रेस पार्टी का हाथ थाम लिया हो, लेकिन कांग्रेस का साथ नहीं मिल रहा। पांच माह बाद बुधवार को zila parishad साधारण सभा बुलाई तो गई, पर कोरम अभाव में स्थगित करनी पड़ी। इसमें 24 में से zila pramukh सहित सिर्फ नौ सदस्य ही सदन में पहुंचे। वहीं, 15 में से नौ प्रधान कांग्रेस के होने पर भी सिर्फ 4 ही पहुंचे। यदि कांग्रेस के भी सभी सदस्य पहुंच जाते तो कोरम पूरा हो जाता। ऐसे में सदन से बाहर जिला प्रमुख को हाथ का साथ नहीं मिलने को चर्चा होती रही। दूसरी तरफ भाजपा सदस्यों और विधायकों ने भी सभा का बहिष्कार कर नीचे कार्यालय में ही बैठे रहे।

कांग्रेस के 10 MLA, सभी अनुपस्थित

साधारण सभा में जिले की 19 vidhansabha में से 13 विधायक सदन के सदस्य है। इन 13 में से 10 कांग्रेस के है। इनमें bagru से Ganga Devi , chaksu से vedprakash सोलंकी, jhotwara से lal chand katariya , kotputli से rajendra singh yadav , shahpura से alok beniwal , viratnagar से Indraj Gurjar , Jamwa ramgarh से Gopal Lal Meena , Adarsh Nagar से MLA Rafeeq Khan सहित दो निर्दलीय Bassi से laxman meena , dudu से babu lal nagar कांग्रेसी है। इनमें से कोई नहीं पहुंचा। विधायक Indraj Gurjar बैठक स्थगित होने के बाद आए।


84 में से 28 से कोरम, 14 ही आए

सुबह 11 बजे सदन में जिला प्रमुख, jaipur collector jagroop singh yadav , CEO भारती दीक्षित सहित जिला स्तरीय अधिकारी पहुंचे गए। कोरम पूरा करने के लिए आधे घंटे तक इंतजार किया, लेकिन 11:45 बजे स्थगित कर दी गई। गौरतलब है कि सदन में mamber of parliment , विधायक, प्रधान और परिषद पार्षदों को मिलाकर 84 सदस्य है। इसमें एक तिहाई यानी 28 सदस्य से कोरम पूरा होता है। बावजूद मौके पर 14 की ही उपस्थित हुई।

'रास्ता रोकने, सरकारी वाहन का दुरुपयोग करने, पेड़ काटने के आरोप जिला प्रमुख पर लगे है। इससे परिषद की छवि खराब हुई है। एक साल से ग्रामीण विकास रूका पड़ा है। परिषद की सरकार भ्रमित है।- satish pooniya , विधायक Amer Area

'कांग्रेस के सदस्य नहीं जिला प्रमुख के साथ नहीं है। रक्षक जिला प्रमुख ही भक्षक बन गए। उन्होंने माथासूला में हरे पेड़ कटवाए है। सरकारी हैंडपंप को एक निजी भूमि में लेने का प्रयास किया।- ramlal sharma , विधायक chomu

'सदन सबका है। बहिष्कार करना विकास को पीछे ले जाना है। वे सदन में बात रखते तो समाधान होता। ये तो असहयोग वाली स्थिति है। वे आते तो उनकी मन की बात पता चलती। - Moolchand Meena , जिला प्रमुख