स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

CM गहलोत बार-बार इसी चाय की दुकान में क्यों लेते हैं 'चुस्की'? जानें वजह

Nakul Devarshi

Publish: Aug 20, 2019 10:23 AM | Updated: Aug 20, 2019 10:31 AM

Jaipur

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot ) मंगलवार को एक बार फिर अपने व्यस्त शेड्यूल में से कुछ फुर्सत के पल निकालते हुए जयपुर के फेमस साहू चायवाले ( Jaipur Famous Sahu Tea Stall ) पहुंच गए।

जयपुर।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot ) मंगलवार को एक बार फिर अपने व्यस्त शेड्यूल में से कुछ फुर्सत के पल निकालते हुए जयपुर के फेमस साहू चायवाले ( Jaipur Famous Sahu Tea Stall ) पहुंच गए। यहां उन्होंने जलदाय मंत्री डॉ बीड़ी कल्ला और मुख्य सचेतक महेश जोशी सहित अन्य नेताओं के साथ सुबह की चाय का आनंद लिया। गहलोत ने यहां सभी नेताओं के साथ कुल्हड़ चाय की चुस्की ली।

 

ये पहली बार नहीं है जब सीएम गहलोत चौड़ा रास्ता स्थित जयपुर के जाने-माने साहू की चाय की दुकान पहुंचे हों। गहलोत ही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित कई शख्सियतें भी साहू टी स्टॉल पर चाय की चुस्कियां लगाने आती रहती हैं। साहू की चाय के कद्रदानों में धर्मेंद्र, हेमामालिनी, गोविंदा और डैनी जैसी बॉलीवुड की लोकप्रिय हस्तियां भी शामिल हैं।

ashok gehlot tea lover sahu tea stall jaipur

जानकारी के मुताबिक़ साहू टी स्टॉल की नीव 1964 में रखी गई थी। इस टी स्टॉल को शुरू करने वाले लादूराम और उनकी धर्मपत्नी मोती देवी दोनों ही अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी इस छोटी सी टी स्टॉल में बनने वाली चाय के आज भी कद्रदानों की कमी नहीं है। बताते हैं कि शुरुआत में यहां सिगड़ी में चाय बना करती थी। सिगड़ी की मध्यम आंच में सिकती चाय ही इसका आकर्षण हुआ करती थी।

ashok gehlot tea lover sahu tea stall jaipur

इसके बाद में लादूराम के तीन पुत्र भंवर, लक्ष्मीनारायण और गणेशराम ने साहू टी स्टाल को चलाने की ज़िम्मेदारी संभाली। अब तीसरी पीढ़ी भी इसी ज़िम्मेदारी को आगे बढ़ा रही है। यहां आने वाले चाय के शौक़ीन कद्रदान बताते हैं इस शॉप में इस्तेमाल होने वाली ताज़ा और अच्छी गुणवत्ता के दूध के साथ ख़ास तरह की चाय पत्ती, मसाले का फ्लेवर और उसकी सिकाई चाय को लाजवाब बना देती है। कई सालों से आज तक वही स्वाद बरकरार है।