स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आखिर कब दूर होगी रेल यात्रियों की परेशानी, खर्च करना पड़ रहा दोगुना किराया

Santosh Kumar Trivedi

Publish: Aug 20, 2019 13:43 PM | Updated: Aug 20, 2019 13:45 PM

Jaipur

जयपुर रेलवे स्टेशन पर यार्ड रीमॉडलिंग कार्य के चलते प्रभावित 150 ट्रेनों का असर राखी के त्योहार के बाद भी नजर आ रहा है।

जयपुर। जयपुर रेलवे स्टेशन पर यार्ड रीमॉडलिंग कार्य के चलते प्रभावित 150 ट्रेनों का असर राखी के त्योहार के बाद भी नजर आ रहा है। दैनिक यात्रियों के लिए ना केवल नौकरी पर आना मुश्किल हो रहा है, बल्कि उन्हें आने जाने पर करीब दोगुना किराया खर्च करना पड़ रहा है। जो ट्रेनें इस समय लोकल के रूप में चल रही हैं, वे भी कई बार समय पर नहीं पहुंच पा रही हैं।

 

रेलवे प्रशासन ने विकल्प के तौर पर हाल ही में जिन ट्रेनों को जयपुर के आस पास कुछ दूरी के लिए लोकल किया, उनमे भी किराया सुपर फास्ट की तरह ही वसूल किया जा रहा है। यात्रियों को बस का विकल्प चुनने पर भी आने जाने में करीब 150 रुपए यात्रियों को चुकाने पड़ रहे हैं। इससे मजदूर वर्ग के लिए तो नौकरी करना ही मुश्किल हो रहा है।


स्टेशन पर कार्य के कारण अगस्त माह में 7 अगस्त से 27 अगस्त तक बडे स्तर पर ट्रेनों को रद्द, आंशिक रद्द या मार्ग परिवर्तित किया गया है। राखी के अवकाश बाद पूजा एक्सप्रेस से जयपुर आने वाले एक यात्री ने बताया कि कि रेवाडी, खैरथल, अलवर और दौसा सहित जयपुर में खातीपुरा और आस पास सहित आउटर में कई बार चेन पुलिंग हुई। इसका कारण उन्होंने सामान्य कोच में अत्यधिक भीड़ होना बताया।

 

 

रेलवे ने प्रयास किए, लेकिन पूरी तरह संभव नहीं
ट्रेनें बड़े स्तर पर प्रभावित होने के बाद रेलवे ने कुछ ट्रेनों को आस पास के गांवों व कस्बों में अस्थायी ठहराव दिए हैं, लेकिन पूरी तरह राहत देना संभव नहीं हो पाया।

train journey

परेशानी हो रही है भारी
मंडल रेल उपयोग कर्ता परामर्शदात्री समिति के सदस्य और मंडल एवं दैनिक रेल यात्री संघ फुलेरा जयपुर के महासचिव बलबीर गुर्जर के अनुसार दैनिक यात्रियों के पास बेरोजगारी की समस्या हो गई है। ट्रेनें आसानी से नहीं मिल रही हैं, जो ट्रेनें चल रही हैं, वे भी समय पर नहीं पहुंचा रही है। आश्रम एक्सप्रेस का भी लोकल ठहराव की मांग की थी, उसे भी रेलवे प्रशासन ने नहीं माना। जो ट्रेनें जयपुर के आसपास लोकल की तरह चलाई जा रही हैं, उनमें किराया सुपरफास्ट की तरह ही वसूल किया जा रहा है।