स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कोई वार्ड अध्यक्ष नहीं लड़ सकेगा पार्षद चुनाव, जयपुर नगर निगम चुनाव में कांग्रेस ने बनाई रणनीति

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Jan 22, 2020 18:21 PM | Updated: Jan 22, 2020 18:21 PM

Jaipur

हैरिटेज नगर निगम और ग्रेटर नगर निगम के चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू, नगर निगम ने वार्डों के परिसीमन का काम पूरा कर सूची सरकार को भेजी, जल्द ही निकाली जाएगी वार्डों के आरक्षण की लॉटरी

अश्विनी भदौरिया / जयपुर. हैरिटेज नगर निगम और ग्रेटर नगर निगम के चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। नगर निगम ने वार्डों के परिसीमन का काम पूरा कर सूची सरकार को भेज दी है। जल्द ही वार्डों के आरक्षण की लॉटरी निकाली जाएगी। इसके बाद कांग्रेस शहर संगठन वार्ड अध्यक्षों की नियुक्ति करेगा। इसमें समाजिक समीकरणों को भी ध्यान रखा जाएगा। संगठन ने यह भी फैसला किया है कि वार्ड अध्यक्ष को पार्षद का टिकट नहीं दिया जाएगा। अध्यक्ष पार्टी की ओर से घोषित प्रत्याशी को जिताने के लिए काम करेगा।


जयपुर नगर निगम में भाजपा का दबदबा रहा है। अब तक एक बार भी महापौर कांग्रेस का नहीं बन पाया है। ऐसे में दो नगर निगम होने से कांग्रेस की आस जगी है। विस चुनाव को आधार मानें तो हैरिटेज नगर निगम में कांग्रेस की स्थिति ज्यादा बेहतर नजर आती है। वहीं, ग्रेटर में भाजपा मजबूत है।

विधायक और प्रत्याशी की भूमिका अहम
वार्ड अध्यक्ष की नियुक्ति में क्षेत्रीय विधायक और विधानसभा का चुनाव लड़ चुके प्रत्याशियों की भूमिका अहम होगी। विस क्षेत्र से जो सूची भेजी जाएगी, उस पर चर्चा होगी और शहर संगठन नामों का ऐलान करेगा। वार्ड अध्यक्ष का आवेदन करने वाले लोगों से आवेदन फॉर्म भरवाया जाएगा। इसमें पार्टी के लिए काम करने के साथ-साथ सामाजिक जिम्मेदारी के बारे में भी पूछा जाएगा।

पिछले बोर्ड का हाल
कुल पार्षद-91
भाजपा-64
कांग्रेस-18
निर्दलीय-09

कांग्रेस शहर अध्यक्ष प्रताप सिंह खाचरियावास ( Pratap Singh Khachariyawas ) ने कहा कि विधायक और विस चुनाव में प्रत्याशी रह चुके प्रत्याशियों की भूमिका वार्ड अध्यक्ष नियुक्ति में महत्वपूर्ण होगी। उन्हीं की रिपोर्ट के आधार पर फैसला किया जाएगा। जल्द ही इस प्रक्रिया को शुरू करेंगे और निकाय चुनाव से पहले सभी 250 वार्ड में ब्लॉक अध्यक्ष नियुक्त कर दिए जाएंगे।

इधर, भाजपा की भी तैयारी पूरी
भाजपा शहर संगठन के पदाधिकारियों की मानें तो बूथ स्तर तक संगठन तैयार है। यही निकाय चुनावों में जीत का आधार भी है। वार्ड आरक्षण के बाद कुछ बदलाव करेंगे। संगठन पूरी दमदारी से चुनाव लड़ेगा।

[MORE_ADVERTISE1]