स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

घर से कुछ दूर खड़ी नजर आई खुद की कार, देखा तो नरेश रह गया दंग, इस हालत में मिले युवक-युवती

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Nov 12, 2019 20:57 PM | Updated: Nov 12, 2019 20:57 PM

Jaipur

कालवाड़ रोड का मामला, सिरफिरे ने युवती को गोली मार की हत्या, फिर खुद को भी उड़ाया, कावंटिया अस्पताल में छुट्टी का हवाला दे नहीं हो सका युवती का पोस्टमार्टम

मुकेश शर्मा / जयपुर। झोटवाड़ा में गोविन्द दृवारा वर्षा की गोली मार हत्या कर फिर खुद को गोली मारने की वारदात को अंजाम देने के बाद मौके पर भीड़ जुट गई। इसी दौरान उधर से जा रहे गोविन्द के जीजा नरेश ने खुद की कार को लोगों से घिरा और दहशत में देखा। तब वह दौड़कर वहां पहुंचा तो कार में गोविन्द और वर्षा को लहूलुहान देख सन रह गया।

गोविंद के आभूषण व्यापारी जीजा नरेश ने बताया कि रोज दोपहर को घर पर भोजन करने आते हैं। घर आए तो कुछ दूरी पर भीड़ थी और उनकी कार खड़ी थी। वहां दौड़कर गए तो उनकी पत्नी का भाई गोविंद और एक युवती लहूलुहान पड़े थे। तभी पड़ोसी भानू प्रताप सिंह अपनी कार ले आए और उनकी कार से दोनों को अस्पताल पहुंचाया। यह कार परिवार की महिलाओं को वाहन चलाना सीखने के लिए खरीदी थी।


बहन की सास बोली, हमारी गाड़ी तेजी से निकली

[MORE_ADVERTISE1]घर से कुछ दूर खड़ी नजर आई खुद की कार, देखा तो नरेश रह गया दंग, इस हालत में मिले युवक-युवती[MORE_ADVERTISE2]

घटना स्थल से करीब 50-60 मीटर दूरी पर गोविंद की दो बहनों का ससुराल है। उसकी बहनों की सास माया देवी ने बताया कि घर के पोर्च में बैठ बाजरा साफ कर रही थी। तभी उनकी कार तेजी से घर के बाहर निकली तब कार को देखकर बोली कि अपनी कार इतनी तेजी से कौन ले जा रहा है। घर पर जगह नहीं होने पर कार करीब दस दिन से गोविंद के घर पर ही खड़ी कर रखी थी। कभी-कभी गोविंद उसे चला लेता था। फिलहाल गोविंद कोई काम नहीं कर रहा था। गोविंद तीन भाइयों में सबसे छोटा है और उसके पांच बहने हैं।

उपवास था, केले लेने निकली थी बहन

[MORE_ADVERTISE3]घर से कुछ दूर खड़ी नजर आई खुद की कार, देखा तो नरेश रह गया दंग, इस हालत में मिले युवक-युवती

वर्षा के भाई ने बताया कि मंगलवार को उपवास होने पर बहन घर के नजदीक दुकान से केले लेने निकली थी। तभी आरोपी एक बार बात करने की कहकर उसे कार में बैठा ले गया। हत्या के बाद वर्षा के हाथ में खून से भिगे रुपए थे, जो केले लाने के लिए घर से लेकर गई थीं।


छुट्टी पर था कर्मचारी, नहीं हो सका पोस्टमार्टम
वर्षा का शव मंगलवार दोपहर को कांवटिया अस्पताल पहुंचाया गया, यहां पर मृतका के परिजन और पुलिस पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल प्रशासन के यहां चक्कर काटने लगे। बाद में अस्पताल प्रशासन ने बताया कि मंगलवार को राजकीय अवकाश होने पर एक्स-रे करने वाले तकनीकी कर्मचारी छुट्टी पर हैं। गोली लगने के मामले में मृतक का पोस्टमार्टम से पहले एक्स-रे होगा। इसके बाद पोस्टमार्टम होगा। बुधवार का कर्मचारी अस्पताल आएंगे, उसके बाद एक्स-रे होगा, फिर पोस्टमार्टम। पहले ही वारदात से सहमे परिजन पोस्टमार्टम के लिए मिन्नत करते रहे। उधर, झोटवाड़ा थानाधिकारी विक्रम सिंह ने बताया कि एक्स-रे करने वाला कर्मचारी छुट्टी पर होने पर मृतका का पोस्टमार्टम नहीं कराया जा सका। अब बुधवार सुबह पोस्टमार्टम कराया जाएगा।