स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कार में शराब पीने पर टोकना पुलिस को पड़ा भारी, युवक ने सिपाही से की जमकर मारपीट, फाड़ डाली वर्दी

Dinesh Saini

Publish: Aug 20, 2019 11:41 AM | Updated: Aug 20, 2019 11:43 AM

Jaipur

Jaipur Crime: कार में बैठकर शराब पीने ( Crime ) से टोकना एक यातायात पुलिस ( Traffic Police ) के सिपाही को भारी पड़ गया। युवक ने सिपाही से जमकर मारपीट की और उसकी वर्दी फाड़ दी...

जयपुर। कार में बैठकर शराब पीने ( Jaipur Crime ) से टोकना एक यातायात पुलिस ( Traffic Police ) के सिपाही को भारी पड़ गया। युवक ने सिपाही से जमकर मारपीट की और उसकी वर्दी फाड़ दी। हालाकि मौके पर जमा लोगों ने आरोपी को दबोच लिया और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। मामले में जवाहर सर्किल थाना पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

 

पुलिस के अनुसार यातायात पुलिस में तैनात कांस्टेबल प्रेमदीप ने मामला दर्ज करवाया कि वह जवाहर सर्किल पर ड्यूटी कर रहा था। इसी दौरान सडक़ किनारे कार खड़ी कर दो युवक उसमें शराब पी रहे थे। इस पर उसने टोंका तो वे कार लेकर वहां से चले गए। इसके बाद कार में सवार एक युवक पैदल वापस आया और उसके साथ अभद्रता करते हुए मारपीट करने लगा। मारपीट करता देखकर मौके पर लोग जमा हो गए और दूर खड़े अन्य यातायात पुलिस के जवान भी वहां पर आ गए। आरोपी को पकड़ लिया। सूचना पर जवाहर सर्किल थाना पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी को पकड़ कर थाने पर ले आई। गिरफ्तार लोकेश टोंक का रहने वाला है और जयपुर में एक होटल में काम करता है। वर्तमान में वह जवाहर सर्किल इलाके में ही किराए से रह रहा है।

 

यह कोई पहला मामला नहीं है जब यातायात नियमों का उल्लघंन करने पर टोंकने पर आमजन ने पुलिस पर हाथ उठाया हो। पिछले हफ्ते ही सांगानेरी गेट पर एक हैडकांस्टेबल के साथ भी बाइक सवार युवकों ने मारपीट की थी। इसके अलावा एक मामला ट्रांसपोर्ट नगर का भी सामने आया था। इसमें बाइक सवार युवकों ने बिना हेलमेट रोकने पर पुलिसकर्मी से अभद्रता की थी। गलती होने के बावजूद आमजन के गुस्से का शिकार पुलिस को क्यों होना पड़ रहा है यह अपने आप में जांच का विषय है। लगातार सडक़ हादसों के चलते पुलिस यातयात नियमों की पालना को लेकर सख्त नजर आ रही है। खास तौर से शराब पीकर वाहन चलाने वाले वाहन चालकों के खिलाफ। वजह भी साफ है कि रफ्तार के चलते एक सप्ताह में जेएलएन मार्ग पांच लोगों की जान चली गई थी।