स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब नगर निगम के आयुक्त को होना होगा हाईकोर्ट में हाजिर

Mukesh Sharma

Publish: Aug 22, 2019 17:17 PM | Updated: Aug 22, 2019 17:17 PM

Jaipur

राजस्थान हाईकोर्ट (Rajasthan Highcourt) ने जयपुर नगर निगम(Jaipur Nagar Nigam) के आयुक्त (Commissioner) को 27 अगस्त को कोर्ट में हाजिर होने के आदेश दिए हैं। चीफ जस्टिस एस रविन्द्र भट्ट व जस्टिस इन्द्रजीत सिंह की बैंच ने यह अंतरिम आदेश स्व:प्रेरणा (Suo Motu) से दर्ज जनहित याचिका पर दिए।

जयपुर
कोर्ट ने यह आदेश नगर निगम की ओर से जयपुर के परकोटा इलाके से अतिक्रमण हटाने,आवासीय इमारतों में व्यावसायिक गतिविधियां रोकने और हैरीटेज को बचाने का प्लान पेश नहीं करने पर दिए हैं।
मामले में एमिकस क्यूरी एडवोकेट शोभित तिवाडी ने बताया कि हाईकोर्ट को जौहरी बाजार के हल्दियों के रास्ते में आवासीय इमारतों में व्यावसायिक गतिविधियां चलाने की शिकायत एक पत्र के जरिए की गई थी। हाईकोर्ट ने पत्र के आधार पर स्व:प्रेरणा से जनहित याचिका दर्ज करके जयपुर नगर निगम से जवाब मांगा था। बाद में हाईकोर्ट ने मामले का दायर बढाते हुए परकोटा इलाके में अतिक्रमण होने और हैरीटेज को बर्बाद करने को भी शामिल कर लिया था। कोर्ट को बताया गया था कि परकोटा इलाके में पुरानी हवेलियों और भवनों को तोडकर व्यावसायिक काम्पलेक्स बनाए जा रहे हैं और निगम इन्हें रोकने के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। इसके अतिरिक्त आवासीय इमारतों में धडल्ले से व्यावसायिक गतिविधियां संचालित हो रही हैं। इस कारण परकोटा इलाके का हैरीटेज बिगड रहा है व व्यावसायिक गतिविधियों के चलते ट्रैफिक के हालात भी बेकाबू हो रहे हैं। अतिक्रमणों के कारण पैदल चलना भी दूभर हो गया है। परकोटे के अंदर पुराने जयपुर शहर की छोटी—छोटी गलियों में पुरानी आवासीय इमारतों को तोडकर व्यावसायिक काम्पलैक्स बना दिए हैं। इन गलियों में दुर्घटना या आग लगने की स्थिति में फायर बिग्रेड व एम्बूलेंस के जाने की जगह तक नहीं है।
इस पर कोर्ट ने इस साल 9 मई को जयपुर नगर निगम को परकोटा इलाके में आवासीय इमारतों में चल रही व्यावसायिक गतिविधियों को रोकने,अतिक्रमण हटाने और हैरीटेज को बचाने का प्लान पेश करने को कहा था। लेकिन बार—बार मौका देने के बावजूद नगर निगम अब तक ऐसा कोई प्लान पेश नहीं कर पाया है। इस पर कोर्ट ने नगर निगम के आयुक्त को 27 अगस्त को व्यक्तिश: पेश होकर प्लान पेश नहीं करने का कारण बताने को कहा है।