स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विद्यार्थियों के लिए खुशखबरी, अब सभी के लिए होगी ये कोचिंग योजना, ऐसे विद्यार्थी भी होंगे पात्र

Dinesh Saini

Publish: Dec 07, 2019 09:36 AM | Updated: Dec 07, 2019 09:39 AM

Jaipur

मुख्यमंत्री निशुल्क कोचिंग योजना ( Mukhyamantri Nishulk Coaching Yojana ) अब सभी विद्यार्थियों के लिए होगी। पहले यह योजना सिर्फ सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के छात्रावासों में रहने वाले छात्र-छात्राओं तक ही सीमित थी, लेकिन अब इसमें वे विद्यार्थी भी पात्र होंगे...

- पुष्पेन्द्र शर्मा
जयपुर। मुख्यमंत्री निशुल्क कोचिंग योजना ( Mukhyamantri Nishulk Coaching Yojana ) अब सभी विद्यार्थियों के लिए होगी। पहले यह योजना सिर्फ सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के छात्रावासों में रहने वाले छात्र-छात्राओं तक ही सीमित थी, लेकिन अब इसमें वे विद्यार्थी भी पात्र होंगे, जो छात्रावासों में नहीं रहते। हालांकि, प्राथमिकता छात्रावासों में रह रहे विद्यार्थियों के लिए ही रहेगी।

नियमों में किए गए संशोधन के अनुसार उक्त योजना का दायरा संभागीय मुख्यालयों अजमेर, बीकानेर, भरतपुर, जयपुर, जोधपुर, कोटा, उदयपुर, जिला मुख्यालय सीकर तथा उपखंड कुचामन सिटी नागौर तक बढ़ा दिया है। इन संभागों में संचालित छात्रावासों अथवा राजकीय छात्रावासों में आवास नहीं करने वाले विद्यार्थियेां के लिए भी यह योजना ( CM Free Coaching Scheme ) होगी। वहीं, बजट पूर्व की तरह सभी संभाग के जिलाधिकारियों को आवंटित किया जाएगा।

इसके अलावा योजना के तहत वार्षिक आय में संशोधन किया है। पूर्व में पारिवारिक आय 2.50 लाख रुपए को बढ़ाकर अधिकतम 8 लाख रुपए कर दिया है। साथ ही पहले इस योजना के तहत सिर्फ कोटा और जयपुर के 500-500 विद्यार्थियों का चयन होता था, अब योजना सात संभाग मुख्यालयों और उपखंड कुचामन सिटी के एक हजार विद्यर्थियों के लिए होगी। इनमें 30 प्रतिशत स्थान छात्राओं के लिए आरक्षित होंगे। वहीं, जिलों से ऑनलाइन आवेदन पत्रों के आधार पर आरक्षित श्रेणीवार मैरिट से विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा।

विधि और प्रबंधन जयपुर तथा कोटा को
इस बार योजना के तहत सिर्फ जयपुर-कोटा के विद्यार्थियों को ही जेईई व नीट परीक्षाओं के अलावा विधि और प्रबंधन की तैयारी करवाई जाएगी। जेईई और नीट परीक्षा के लिए अजमेर, बीकानेर के लिए 50-50 सीटें, भरतपुर व कुचामन सिटी के लिए 20-20, उदयपुर और जोधपुर के लिए 100-100, जयपुर व कोटा के लिए 250-250 और सीकर के लिए 160 सीटें होंगी। हालांकि पिछली बार भी योजना में विधि और प्रबंधन के कोचिंग संस्थान नहीं मिल पाए थे।

नीट परीक्षा
15 लाख विद्यार्थी देशभर में देते हैं परीक्षा। 1.5-02 लाख लेते हैं हिस्सा (प्रदेश से )

जेईई मेन
10 लाख छात्र-छात्राएं देते हैं परीक्षा। 01 लाख छात्र बैठते हैं परीक्षा में (प्रदेश से )

जनवरी-मई में परीक्षा
योजना का हाल कुछ ऐसा है कि पिछले डेढ़ साल से योजना ठप पड़ी है। हालांकि 2017 में शुरू होने के बाद इसे बेहद कम विद्यार्थी मिल पाए थे। इस बार भी जनवरी में जेईई और मई में नीट जैसी परीक्षाएं होनी हैं, लेकिन विभाग अभी तक कोचिंग कराने वाले संस्थानों को ही नहीं ढूंढ़ पाया है। कोचिंग संस्थानों से विज्ञापन जारी कर निर्धारित तिथि तक आवेदन लिए जाने हैं।

- कोचिंग संस्थाओं से 15 दिसंबर के आस-पास आवेदन लिए जाएंगे, जबकि जरूरत पडऩे पर नियमों में संशोधन भी किया जा सकता है।
योगेश शर्मा, उप निदेशक, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग

[MORE_ADVERTISE1]