स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिवाली से पहले वाहन खरीदारों को गिफ्ट

Narendra Solanki

Publish: Oct 10, 2019 19:43 PM | Updated: Oct 10, 2019 19:43 PM

Jaipur

ऑटोमोबाइल ( automobile ) सेक्टर का बुरा हाल है। बिक्री लगातार घटती जा रही है। ऐसे में मांग की कमी की समस्या से निपटने के लिए गोवा सरकार ने रोड टैक्स ( Road tax ) में 50 फीसदी छूट का ऐलान किया है। सरकार ( goverment ) ने कहा कि एक दिसंबर 2019 तक नए वाहनों ( new vehicle ) की खरीद पर रोड टैक्स 50 फीसदी तक घटाने को मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। गोवा के परिवहन विभाग ( Transport Department ) के आंकड़ों के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीनों के दौरान राज्य में वाहनों के पंजीकरण में 15 से 17 प्र

पिछले महीने गोवा सरकार ने लग्जरी कार मालिकों से कहा था कि वे अपने वाहनों का रजिस्ट्रेशन दूसरे राज्यों में जाकर नहीं करे। दरअसल, ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने पाया कि गोवा के लोग जो महंगी गाडिय़ां खरीद रहे हैं वे कम शुल्क का फायदा उठाने के लिए दूसरे राज्यों से वाहनों का रजिस्ट्रेशन करवाते हैं और कार गोवा में चलती है। ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की तरफ से कहा गया कि अगर कोई ऐसा करते हुए पकड़ा जाता है कि उनके खिलाफ मोटर व्हीकल एक्ट के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

वर्तमान में गोवा में दो पहिया वाहन जिसकी कीमत 1.5 लाख तक है, उसपर गाड़ी की कीमत का 9 फीसदी रोड टैक्स लगता है। डेढ़ लाख से तीन लाख तक कीमत पर रोड टैक्स 12 फीसदी और 3 लाख से ज्यादा कीमत वाली बाइक पर रोड टैक्स 15 फीसदी है। 6 लाख तक की कार पर 9 फीसदी, उससे ज्यादा 10 लाख तक की कार पर 11 फीसदी रोड टैक्स लगता है। जिस गाड़ी की कीमत 15 लाख से ज्यादा है उस पर 13 फीसदी का टैक्स लगता है।

दूसरी तरफ, वाहनों का इंश्योरेंस रिन्यू कराना अब आसान हो गया है। सरकार ने यह कदम इसलिए उठाया है क्यों कि अक्सर इंश्योरेंस को रिन्यू करवाना हम भूल जाते है और बिना वैलिड इंश्योरेंस पेपर के गाड़ी चलाते रहते हैं। ऐसा करना अब आपको महंगा पड़ सकता है। वैसे भी अब इंश्योरेंस रिन्यू करवाना आसान हो गया है तो बेहतर यही है कि आप समय से उसे रिन्यू करवा लें। नए मोटर व्हीकल्स एक्ट के तहत भारी जुर्माने की वजह से अब आप गाड़ी के इंश्योरेंस को इग्नोर नहीं कर सकते। अब थर्ड-पार्टी लायबिलिटी कवर अनिवार्य है और पहली बार इसके बगैर पकड़े जाने पर 2000 रुपए का जुर्माना लगता है। यही गलती दोहराने पर 4000 रुपए चुकाने पड़ते हैं। बेशक कई दोपहिया गाडिय़ों के मामले में जुर्माने के मुकाबले प्रीमियम की रकम कम है। ऐसे में समझदारी तो यही है कि आप इंश्योरेंस जरूर करवा लें।