स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गहलोत सरकार के मंत्री पर धमकाने का आरोप, शिक्षक नेता ने जनसुनवाई में लगाई गुहार

Firoz Khan Shaifi

Publish: Oct 10, 2019 17:50 PM | Updated: Oct 10, 2019 17:50 PM

Jaipur

शिक्षक नेता जनसुनवाई में लगाई गुहार, उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी में लगाया आरोप ,शिक्षक नेता है कांग्रेस समर्थित, देवली-उनियारा से मांगा था टिकट

जयपुर। कांग्रेस समर्थित शिक्षक नेता विक्रम सिंह गुर्जर ने गुरूवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कृषि मंत्री लाल चंद कटारिया की जनसुनवाई के दौरान उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी पर धमकाने का बड़ा आरोप लगाया। गुर्जर ने कहा कि उच्च शिक्षा मंत्री हमें आंख दिखाते हैं और धमकाते हैं।

उन्होने कहा कि पांच साल बीजेपी के राज में प्रताड़ित व्याख्याताओं को अब तक न्याय नहीं मिल सका है। शिक्षक नेता ने ये भी आरोप लगाया कि उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी के ओएसडी आरएसएस से जुड़े हैं, जब उच्च शिक्षा मंत्री के ओएसडी ही आरएसएस के हों तो सेक्युलर विचारधारा के व्याख्याताओं को कैसे न्याय मिलेगा?

गुर्जर ने कहा कि सेक्युलर विचारधारा के लोगों को पिछली सरकार ने चुन चुनकर हजारों किमी दूर तबादला कर दिया था। गूर्जर ने कहा कि सरकार बदलने के बाद उन्हे उम्मीद थी कि अब आरएसएस के ऐसे कर्मचारियों को हटाया जाएगा ही साथ ही सेक्युलर विचारधारा के अधिकारियों-कर्मचारियों को को इसका फायदा मिलेगा लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है, सरकार बने इतना अरसा बीत गया है, लेकिन आज आरएसएस से जुड़े लोग शिक्षा निदेशालय में जमे हुए हैं ।

शिक्षक नेता गुर्जर ने कहा कि पिछली सरकार के समय राजनीतिक द्वेष के चलते उनका तबादला भीनमाल किया गया था और वो अब भी टोंक में कार्यरत हैं जिसकी परिवदेना मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ- साथ सोनिया गांधी,राहुल गांधी को भेजी है लेकिन अब तक कोई फायदा नहीं हुआ है।

इसके आगे उन्होंने कहा कि पांच साल तक जो भाजपा सरकार में प्रताड़ित हुए वो अब भी प्रताड़ित है हमें प्रताड़ित इसलिए भी किया गया कि हम धर्म निरपेक्ष विचार धार के समर्थक थे।

गुर्जर ने कहा कि वो लगातार उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी से मिल रहे है लेकिन वो उनकी कोई बात सूनते नहीं है और साथ ही उनको धमकाते भी हैं। गुर्जर ने कहा कि इस बारे में जब वो भाटी से बात करते हैं तो वो उनको आंख दिखाते है एक प्रोफेसर के लिए तो यही बहुत होता है।

वहीं दूसरी ओर इस इस मामले पर मंत्री लाल चंद कटारिया की प्रतिक्रिया चाही तो उनका कहना था कि हर किसी को अपनी बात रखने का हक है, ऐसे में विक्रम गुर्जर ने भी अपनी बात रखी है। आपको बता दें शिक्षक नेता विक्रम सिंह गुर्जर को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का कट्टर समर्थक माना जाता है। विधानसभा चुनाव के दौैरान गुर्जर ने देवली-उनियारा से टिकट के लिए दावेदारी भी जताई थी।