स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाकर ओछी राजनीति पर उतरी केंद्र सरकार

Umesh Sharma

Publish: Nov 08, 2019 21:54 PM | Updated: Nov 08, 2019 21:54 PM

Jaipur

गांधी परिवार ( Gandhi Family ) की एसपीजी सुरक्षा ( Spg Security ) हटाने के निर्णय पर कांग्रेस हमलावर ( Congress Angry ) हो गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Cm Ashok Gehlot ) ने कहा है कि गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाना यह बताता है कि केन्द्र की भाजपा सरकार ओछी और निम्न स्तर की राजनीति पर उतर आई है। जिस तरह की राजनीति वे कर रहे हैं, वह उनके मानसिक दिवालियापन को दर्शाता है।

जयपुर।

गहलोत ने कहा कि अगर केन्द्रीय गृहमंत्री ने अपने स्तर पर यह फैसला लिया है तो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को इस पर हस्तक्षेप करना चाहिए और अगर उनकी जानकारी मेंं यह बात है तो फिर यह देश का दुर्भाग्य है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी ने देश के लिए अपनी जान दे दी लेकिन खालिस्तान बनने नहीं दिया और न ही आतंकवाद बढऩे दिया। पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार बेअंत सिंह ने अपनी जान दे दी मगर आतंकवाद को नेस्तनाबूद कर दिया। आतंकवाद से लड़ते हुए ही राजीव गांधी जी की जान चली गई। उन्होंने कहा कि एसपीजी का सुरक्षा कवर सोच-समझकर पार्लियामेंट एक्ट के तहत ही मिलता है। यह जीवन बचाने के लिए केवल सुरक्षा मात्र है, इसमें कोई लाभ नहीं है।

राजनीति से प्रेरित है निर्णय
उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा को विड्रा करना पूरी तरह राजनीति से प्रेरित हैं ऐसा परिवार जहां इंदिरा और राजीव आतंकवाद के शिकार हुए हैं। उन्हें पार्लियामेंट एक्ट के तहत एसपीजी सुरक्षा दी गई थी। सरकार को इस फैसले को वापस लेना चाहिए।

गहरी साजिश का पार्ट
प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि एसपीजी हटाने का जो फैसला केंद्र सरकार ने किया है, यह विपक्षी पार्टियों के लिए बहुत संवेदनशील मामला है। गांधी परिवार और अनेक नेताओं ने देश के लिए आहूति दी है। आज देश में जो स्थिति है, उसमें सोनिया गांधी और उनके परिवार के अन्य सदस्यों का सिक्योरिटी कवर हटाना गहरी साजिश का पार्ट है। इसकी हम निंदा करते हैं। देश के विपक्ष के नेताओं की जान की सुरक्षा केंद सरकार की अहम जिम्मेदारी हैं इसमें कोई नुकसान होता है तो इस देश की जनता माफ नहीं करेगी।

[MORE_ADVERTISE1]