स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विदाई से पहले मानसून ने राजस्थान में मचाया हाहाकार, यहां स्कूलों में अवकाश घोषित, मौसम विभाग ने अब दिए ऐसे संकेत

Dinesh Saini

Publish: Sep 16, 2019 09:14 AM | Updated: Sep 16, 2019 09:15 AM

Jaipur

Flood in Rajasthan: राजस्थान में हाड़ौती अंचल में हुई भारी बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) से बाढ़ ( Flood in Rajasthan ) के हालात बने हुए हैं। सेना और एनडीआरएफ ( NDRF ) टीमों ने बचाव व राहत कार्यों को लेकर मोर्चा संभाल ( Rajasthan Flood 2019 ) रखा है। करौली व धौलपुर में चंबल उफान पर है और अन्य बांधों में भी पानी का मानों सैलाब आ गया है...

जयपुर। राजस्थान में हाड़ौती अंचल में हुई भारी बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) से बाढ़ ( Flood in Rajasthan ) के हालात बने हुए हैं। सेना और एनडीआरएफ ( NDRF ) टीमों ने बचाव व राहत कार्यों को लेकर मोर्चा संभाल ( Rajasthan Flood 2019 ) रखा है। करौली व धौलपुर में चंबल ( Chambal River ) उफान पर है और अन्य बांधों में भी पानी का मानों सैलाब आ गया है। कोटा, बारां, बूंदी और झालावाड़ में बाढ़ के हालात बने हुए हैं वहीं बारां व झालावाड़ और धौलपुर में भारी बारिश ( Heavy Rain ) के चलते आज स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया है। कोटा में बाढ़ के बाद अब धौलपुर में भी बाढ़ के हालात ( Rajasthan Flood Rescue Operation ) हो गए है। वहीं, सवाईमाधोपुर में अलर्ट जारी कर दिया है।

मुख्यमंत्री गहलोत बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का करेंगे दौरा ( Rajasthan Flood Rescue Operation )
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Ashok Gehlot ) सोमवार सुबह हाड़ौती के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हेलिकॉफ्टर से हवाई सर्वेक्षण कर जायज़ा लेंगे। उनके साथ स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल और आपदा राहत प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल शर्मा भी रहेंगे। सीएम गहलोत के हवाई सर्वेक्षण के तय कार्यक्रम के अनुसार सबसे पहले वे बूंदी जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे करेंगे। इसके बाद कोटा शहर और जिले के प्रभावित क्षेत्र का और फिर झालावाड़ जिले का दौरा किया।

जमकर छलक रहा बीसलपुर डेम... 8 गेट खुले
अजमे, जयपुर और टोंक शहर की पेयजल लाइफ लाइन बीसलपुर डेम ( Bisalpur Dam ) इस बार जमकर छलक रहा है। विदाई से पहले मेहरबान हुए मानसून के कारण बीते रविवार को डेम में हुई पानी बंपर आवक से डेम के 18 में से 17 गेट खोले गए। वहीं बीती देररात पानी की आवक थोड़ा कम होने पर डेम के 9 गेट बंद कर दिए गए। आज सुबह डेम के 8 गेट दो— दो मीटर उंचाई तक खोलकर 84140 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

भारी बारिश ( Heavy Rain ) के चलते कोटा, बारां, झालावाड़, करौली और धौलपुर जिलों में नदियां उफान पर हैं। जिलों में निचले इलाकों में बारिश का पानी जमा होने पर जनजीवन प्रभावित है और जिला प्रशासन प्रभावित इलाकों में बचाव व राहत कार्य युद्धस्तर पर चला रहा है। बारां, झालावाड़ और धौलपुर में आज स्कूलों में अवकाश घोषित किय गया है। भारी बारिश के कारण प्रदेश के आधा दर्जन से ज्यादा बड़े बांधों के अधिकांश गेट खोलकर पानी की निकासी लगातार की जा रही है। कोटा बैराज के सभी 19 गेट आज सुबह खुले हैं और बैराज से 7 लाख 4 हजार 324 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार गत सप्ताह से बने हवा के निम्न दबाव के क्षेत्र और उपरी हवाओं के चक्रवाती संचरण प्रदेश के दक्षिण पूर्वी इलाकों समेत दक्षिण पश्चिमी मध्य प्रदेश में भारी बारिश का दौर रहा है। बीती शाम से मौसम तंत्र इन इलाकों में कमजोर पड़ गया है और अगले चौबीस घंटे में पूर्वी राजस्थान के कुछ भागों में हल्की से मध्यम बारिश होने व अगले 48 घंटे में पूरे प्रदेश में बारिश का दौर थमने की संभावना है। दूसरी तरफ मौसम विभाग ने आज से मौसम तंत्र सुस्त होने व बारिश का दौर कमजोर पडऩे की संभावना जताई है।

राजधानी जयपुर में भी बीते रविवार को मेघ जमकर बरसे। सांगानेर में जहां करीब ढाई इंच बारिश हुई वहीं जयपुर कलक्ट्रेट पर 26 मिमी बारिश मापी गई। हालांकि जिले के अन्य इलाकों में बारिश का दौर कमजोर रहा है। बारिश से बदले मौसम के मिजाज के कारण दिन के तापमान में बीते दो दिन करीब 8 डिग्री सेल्सियस तक गिरावट होने पर गर्मी और उमस से शहरवासियों को राहत मिली है। आज सुबह शहर में छितराए बादल छाए रहे और सुबह 6 बजे शहर का अधिकतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड हुआ है। स्थानीय मौसम केंद्र के अनुसार शहर में आज बादल छाए रहने व दिन के तापमान में दो तीन डिग्री सेल्सियस तक बढ़ोतरी होने की संभावना है।