स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महाराष्ट्र-हरियाणा में 'फ्लोटिंग वोटर' गायब

Anoop Singh

Publish: Oct 22, 2019 01:09 AM | Updated: Oct 22, 2019 01:09 AM

Jaipur

दो राज्यों में चुनावी दंगल: मतदाताओं पर नेेता-अभिनेताओं की अपील का असर नहीं

 


नई दिल्ली.
महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव सहित देश के अलग-अलग राज्यों में विधानसभा और लोकसभा सीटों के लिए सोमवार को वोटिंग हुई। लोकसभा चुनाव के लगभग चार महीने बाद हो रहे विधानसभा चुनावों के प्रति वोटरों में उत्साह में कमी नजर आई। महाराष्ट्र और हरियाणा में वोटिंग प्रतिशत में कमी दर्ज की गई है। दोनों ही राज्यों में भाजपा सत्तारूढ़ है।
जानकारों का मानना है कि दोनों राज्यों में पार्टियों के मूल मतदाताओं के अलावा आखिरी वक्त पर वोट का फैसला करने वाले 'फ्लोटिंग वोटरोंÓ में चुनाव को लेकर उत्साह नहीं दिखा। पिछली बार ही तुलना में वोटिंग प्रतिशत में कमी को लेकर राजनीतिक कयासबाजियों का दौर चल रहा है। सत्तारूढ़ पक्ष और प्रतिपक्ष इसे अपने-अपने पक्ष में बता रहा है। वोटिंग के दौरान हिंसा की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर कहीं से भी बड़ी घटना के फिलहाल समाचार नहीं हैं
मुंबई में वोटिंग में नजर आए सितारे: महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में फिल्मी, खेल और कॉरपोरेट जगत के मशहूर नाम वोटिंग करने के लिए नजर आए। स्टार्स ने अपने फैस के साथ फोटो भी खिंचवाई।
साइकिल से पहुंचे खट्टर: हरियाणा के मुयमंत्री मनोहर लाल खट्टर करनाल के बूथ पर वोटिंग के लिए साइकिल पर गए। हरियाणा में सत्तारूढ़ भाजपा को अपनी सरकार बचाने की चुनौती है।
खींवसर में 62.49, मंडावा में 69.61 प्रतिशत वोटिंग
जयपुर. नागौर के खींवसर और झुंझुनंू के मंडावा विधानसभा उपचुनाव के लिए सोमवार को मतदान हुआ। कुछ तकनीकी गड़बडिय़ों को छोड़ दें तो मतदान शान्तिपूर्वक हुआ। खींवसर: 62.49 प्रतिशत (2018: 75.58) मंडावा: 69.61 प्रतिशत (2018: 73.20)
विधानसभा उपचुनाव (वोटिंग प्रतिशत)
अरुणाचल प्रदेश: 90.74
असम: 74.14
बिहार: 49.50
गुजरात: 50.35
हिमाचल प्रदेश: 67.97
केरल: 64.99
मेघालय: 79.83
ओडिशा: 70.00
पंजाब: 60.59
सिक्किम : 69.55
तमिलनाडु: 68.87
उत्तरप्रदेश: 44.71
तेलंगाना: 82.23
पुड्डुचेरी: 66.95

चुनावों में राष्ट्रीय मुद्दे ही छाए रहे
- परंपरागत मतदाता ही निकला, फ्लोटिंग वोटर घरों में सिमटा।
- राज्यों में प्रतिपक्ष चुनाव अभियान के दौरान बड़ा हल्ला नहीं मचा पाया।
- लोकसभा चुनाव अभी हाल ही में हुए हैं, वोटिंग के प्रति उत्साह कम।
- महाराष्ट्र और हरियाणा के स्थानीय मुद्दों पर वोटिंग का रहा है पैटर्न।
- अनुच्छेद-370, पाकिस्तान व अर्थव्यवस्था में मंदी के मुद्दे ही उछले।