स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब शादी वाले घर में दनादन पहुंची पूरे थाने की पुलिस, फिर...

Dinesh Kumar Gautam

Publish: Nov 23, 2019 00:55 AM | Updated: Nov 23, 2019 00:55 AM

Jaipur

जिस बेटी की शादी हो रही है उसके पिता हमारे थाने में साथ काम करते हैं, हम यहां मायरा भरने आए है। इसके बाद तो माहौल ही बदल गया।

कैसा लगेगा जब किसी के घर में शादी का माहौल हो, लोग भात पहनने की तैयारी कर रहे हो और घर के बाहर पुलिस की कई गाड़ियां एक साथ आकर रूकी हो, यकीनन घर में मौजूद सभी लोगों का खून पानी हो जाएगा। गाड़ियों से वर्दी में 20 से 25 पुलिसकर्मी निकले, फिर थानाधिकारी और एसपी साहब भी नजर आए तो लगेगा कि कोई बड़ा गड़बड़झाला हो गया है, लेकिन ये सस्पेंस तब खत्म हुआ जब घर के जिम्मेदार सदस्यों ने डरते हुए हाथ जोड़कर थानाधिकारी से पूछा कि साहब कुछ गलती हो गई है क्या...इसके बाद थानाधिकारी का जवाब सुन माहौल गमगीन हो गया। किसी को विश्वास ही नहीं हो रहा था कि जिस पुलिस के बारे में अब तक उन्होंने जेहन में चेहरा बना रखा था वो अब बदल रही है। दरअसल पुलिस अधिकारी ने जब ये कहा कि जिस बेटी की शादी हो रही है उसके पिता हमारे थाने में साथ काम करते हैं, हम यहां मायरा भरने आए है। इसके बाद तो माहौल ही बदल गया।
शादी में पुलिस उपायुक्त जयपुर पश्चिम कावेन्द्र सिंह सागर, करधनी थानाधिकारी रामकिशन विश्रोई के नेतृत्व में थाने में कार्यरत सफाई कर्मचारी जितेन्द्र की बेटी की शादी में मायरा भरने गोविन्दम् टावर के पास घर पहुंचे। समारोह में पहुंचकर मायरा भरने की रस्म अदा की गई। इस मौके पर न सिर्फ थाने के लोग बल्कि सीएलजी सदस्य, पार्षद भी पहुंचे।
करधनी थानाधिकारी रामकिशन विश्रोई ने बताया कि सभी पुलिसकर्मी ने मिलकर सफाईकर्मी जितेन्द्र की बेटी की शादी में कपड़े व 1 लाख 73 हजार रुपए नकद मायरा के रूप में भेंट किए गए है।
दरअसल दुल्हन का पिता जितेन्द्र पिछले कई दिनों से करधनी थाने में सफाई का काम कर रहे हैं। जितेन्द्र की आर्थिक स्थिति काफी कमजोर हैं, जिसे थाने का स्टाफ भलीभांति जानता है। जितेंद्र थाने में सफाई के साथ मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का पालन पोषण करता है। इसके चलते थाने के सभी पुलिसकर्मियों का इससे लगाव था। बेटी की शादी की जानकारी मिलने के बाद थाना स्टाफ ने मिलकर उसकी मदद करने की ठानी और इस फैसले से डीसीपी को अवगत कराया। सकारात्मक पहल पर डीसीपी कावेंद्र सिंह सागर भी रजामंद हो गए। थाने के सदस्य कर्मचारी जितेन्द्र की बेटी पूजा की शादी में पुलिस उपायुक्त जयपुर पश्चिम व करधनी थानाधिकारी विश्रोई सहित थाने की पुलिसकर्मियों ने मायरा भरने का निर्णय लिया। शाम को मायरा भरने जितेन्द्र के घर पहुंचे तो पुलिसकर्मियों का मंगलगीत गाकर महिलाओं ने स्वागत किया। जितेन्द्र की पत्नी ने सगे भाईयों की तरह पुलिसकर्मियों के तिलक व मोली बांधकर मुंह मीठा करवाया। डीसीपी व थानाधिकारी ने चुनरी ओढक़र मायरे की रस्म अदा की। पुलिस ने मायरे की रस्म अदा करते हुए परम्परा अनुसार सफाई कर्मचारी जितेन्द्र को साफा पहनाकर पहरावणी की रस्म अदा की। पुलिस ने इसके जरिए अपना मानवीय चेहरा दिखाने का प्रयास किया है, जो सकारात्मक और लोगों को जोड़ने के लिए जरूरी है। देखना होगा वर्दी में पुलिस ऐसे प्रयासों से लोगों का दिल जीतने में कितने कामयाब हो पाती है और समाज में आमजन में कितना विश्वास जगा पाती है।

[MORE_ADVERTISE1]