स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बृहस्पति के चांद यूरोपा पर मिले वाष्प के सबूत

Vijayendra Kumar Rai

Publish: Nov 20, 2019 01:44 AM | Updated: Nov 20, 2019 01:44 AM

Jaipur

नासा : वैज्ञानिकों ने वॉयजर 1 स्पेसक्राफ्ट की तस्वीरों का किया विश्लेषण

 

वाशिंगटन. बृहस्पति के 79 चंद्रमा में से एक 'यूरोपाÓ पर वाष्प के सबूत मिले हैं। नासा के वैज्ञानिकों ने करीब चालीस साल पहले वायजर स्पेसक्राफ्ट से ली गई तस्वीरों का विश्लेषण कर यह तथ्य निकाले हैं।
वॉयजर 1 ने करीब 29 लाख किलोमीटर दूर से बर्फ से ढंकी यूरोपा की सतह की 2 मार्च 1979 को तस्वीर खींची थी। दूसरी तस्वीर वॉयजर 2 द्वारा 9 जुलाई 1979 को ली गई थी। तस्वीरों के विश्लेषण से पता चला है कि यूरोपा की बर्फीली सतह पर भूरे रंग की दरारें दिख रही हैं। इसे नासा की जीवन की खोज की दिशा में अहम कदम माना जा रहा है।

वैज्ञानिकों ने ये निकाले तथ्य

दावा है कि इससे यूरोपा को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी।
यह एक विचार का समर्थन करता है कि यहां महासागर है, जो संभवत: पृथ्वी से दोगुना बड़ा है।
यह महासागर इस चंद्रमा की मीलों मोटी बर्फ की चादर के नीचे है।

बर्फीली सतह के नीचे हो सकता है जलस्रोत
पानी की जांच का नेतृत्त्व करने वाले लुकास पागनिनी ने कहा, वैज्ञानिकों की ओर से अभी स्पष्ट पानी का पता नहीं लगाया जा सका है, लेकिन हमें वाष्प की मौजूदगी का पुख्ता प्रमाण मिला है। नेचर एस्ट्रोनॉमी पत्रिका में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पगनिनी और उनकी टीम ने कहा है कि यूरोपा के भीतर एक ऐसा जलस्रोत हो सकता है, जिससे 2360 किलोग्राम प्रति सैकंड की गति से ओलंपिक स्वीमिंग पूल को मिनटों में भरा जा सकता है।

पहले भी किया था दावा
हमारे चंद्रमा से थोड़े छोटे यूरोपा में जलवाष्प की खोज का दावा वर्ष 2003 से ही किया जाता है। अंतरिक्ष स्थित दूरबीन हव्वल ने यूरोपा के चित्र लिए थे तो भी कहा गया था कि इन चित्रों में काफी उंचाई तक उठते पानी के फव्वारे नजर आते हैं। जिनकी उंचाई सौ किमी तक आंकी गई थी। यूरोपा के बारे में जानने लिए वर्ष 1995 में नासा ने गैलीलियो नामक अंतरिक्ष यान भेजा था। यह यान 2003 तीन तक यूरोपा की छानबीन में जुटा रहा था।

जानें इस 'चांदÓ को
2360 किलोग्राम पानी प्रति सेकंड यूरोपा से उत्सर्जित
17 रातों तक शोध टीम ने लगातार वाष्प का अघ्ययन किया
1995 से 2003 तक नासा के गैलीलियो स्पेसक्राफ्ट ने यूरोपा के आंकड़े जुटाए
2020 में यूरोपा में जीवन की संभावनाएं तलाशने को यूरोपा क्लिपर मिशन शुरू होगा

फोटो पहेली ने खोला राज
वॉयजर-1 स्पेसक्राफ्ट ने 2 मार्च, 1979 में 29 लाख किमी दूर यूरोपा की तस्वीर ली थी (बायें)
वॉयजर-2 स्पेसक्राफ्ट ने 9 जुलाई, 1979 में यूरोपा की तस्वीर ली थी (मध्य)
गैलीलियो स्पेसक्राफ्ट ने 1990 में यूरोपा की तस्वीर ली थी (दायें)

यों खुला वाष्प का राज
सौर विकिरण से संपर्क में आने पर पानी के अणु इन्फ्रारेड प्रकाश की निर्धारित आवृत्तियां उत्सर्जित करते हैं। यूरोपा में भी वैज्ञानिकों ने ये पाया।

[MORE_ADVERTISE1]nasa_vikram.jpg
nasa IMAGE CREDIT: nasa
[MORE_ADVERTISE2]