स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पीएम मोदी से मिलीं पद्दिमनी और दीया, गोविन्ददेवजी की तस्वीर भेंट कर राजस्थान के लिए रखी यह मांग

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Nov 19, 2019 20:44 PM | Updated: Nov 19, 2019 20:44 PM

Jaipur

सांसद दीया ने की मोदी से मुलाकात, मावली मारवाड़ ब्रॉडगेज कार्य की अड़चनों को दूर करने की मांग, कहा पीएम ने दिया सकारात्मक आश्वासन

शादाब अहमद / नई दिल्ली। राजसमंद सांसद दीयाकुमारी ( Diya Kumari ) ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) से मुलाकात कर मावली-मारवाड़ जंक्शन आमान परिवर्तन के कार्य को शीघ्र शुरू करने और हाइवे विस्तार योजनाओं को स्वीकृत करने की मांग की। मुलाकात के दौरान दीया कुमारी के साथ पद्मनी कुमारी ( Padmini Kumari ) भी मौजूद रही।

सांसद ने कहा कि महत्वाकांक्षी मावली-मारवाड़ आमान परिवर्तन योजना के लिए वर्ष 2017-18 में 16 सौ करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया, जिसे बाद में 2600 करोड़ रुपए कर दिया गया। उक्त मार्ग में टाडग़ढ़ वन क्षेत्र आ जाने व अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं मिलने व वित्तीय प्रावधानों की कमी के कारण आमान परिवर्तन का कार्य ठप है। इस पर प्रधानमंत्री मोदी ने सकारात्मक आश्वासन दिया।

दीया कुमारी ने कहा कि मावली-मारवाड़ रेल लाइन मेवाड व मारवाड़ क्षेत्र का महत्वपूर्ण रेल मार्ग है। इससे भीलवाड़ा, चित्तौड, उदयपुर, राजसमंद, पाली व जोधपुर जैसे शहरों से यात्रा करने वाली यात्रियों को आवागमन में सुविधा मिलेगी। मुलाकात के दौरान सांसद ने प्रधानमंत्री मोदी को गोविंद देवजी और श्रीनाथजी की तस्वीर भी भेंट की।

पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पेश
नागौर से आरएलपी ( RLP ) से सांसद हनुमान बेनीवाल ( Hanuman Beniwal ) ने लोकसभा ( Loksabha ) में राजस्थान के पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र यादव, एडीजी इंटेलिजेंस उमेश मिश्रा, सीएमओ में कार्यरत विजिलेंस डीआईजी संजय सोत्रे,बाड़मेर एसपी शरद चौधरी, सीएमओ में कार्यरत विशिष्ठ सचिव अमित ढाका के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव पेश किया। सांसद ने सदन में 12 नवम्बर को बाड़मेर जिले के बायतु में उनके और केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी पर हुए हमले का जिक्र करते हुए कहा कि राजस्थान सरकार ( Rajasthan Government ) के इशारे पर हमला करवाया गया। इसमें पुलिस तथा सीएमओ के कार्यरत एक अधिकारी के इशारे पर स्थानीय पुलिस मूक दर्शक बनी रही। उन्होंने कहा कि इस मामले में एसपी ने उनकी ओर से प्रेषित मुकदमा भी दर्ज नही किया।

[MORE_ADVERTISE1]