स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तरीके अलग, अंजाम एक... खातों से निकले लाखों रुपए

vinod saini

Publish: Aug 25, 2019 06:15 AM | Updated: Aug 25, 2019 01:36 AM

Jaipur

क्राइम न्यूज : (crime news) साइबर ठगों (Cyber thugs) का आंतक दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। ठगों ने एटीएम कार्ड (ATM card) की जानकारी लेकर शहर के अलग-अलग इलाकों में पीडि़तों के खातों से करीब साढ़े तीन लाख रुपए निकाल लिए। पीडि़तों ने पुलिस में मामला दर्ज (Case filed) कराया, लेकिन कोई राहत नहीं मिली। पुलिस मामले की तहकीकात (Police case investigation) में जुटी है।

 

-ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स बनी साइबर ठगों का नया हथियार

-साइबर ठग फिर सक्रिय, एक ही दिन में साढे़ तीन लाख की ठगी

-जवाहर नगर, बजाज नगर और मालवीय नगर थाना इलाके का मामला

जयपुर। शहर के अलग-अलग थाना इलाकों से साइबर ठगों (Cyber thugs) ने एटीएम कार्ड (ATM card) की जानकारी लेकर पीडि़तों के खातों से करीब साढ़े तीन लाख रुपए निकाल लिए। जवाहर नगर थाना इलाके में एक युवक को ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट (Online shopping website) से शर्ट लौटाने पर कस्टमर केयर प्रतिनिधि (Customer Care Representative) ने जानकारी लेकर पैसे निकाल लिए। एक युवक के पास ऑनलाइन जूते मंगवाने पर डिब्बा खाली आया तो वेबसाइट पर बात की तो वहां उससे खाते की जानकारी लेकर 25 हजार रुपए निकाल लिए। बजाज नगर में नया क्रेडिट कार्ड (Credit Card) बनकर आने के बाद युवक के खाते से विदेश में 3 लाख 30 हजार रुपए निकाल लिए।

कस्टमर केयर पर बैठे हैं ठग

जानकारी के मुताबिक बेगुसराय बिहार हाल जवाहर नगर सेक्टर पांच निवासी प्रदीप कुमार महतो ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पीडि़त ने ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से 300 रुपए की शर्ट खरीदी थी। 21 अगस्त को शर्ट घर पहुंच गई, लेकिन वह साइज में बड़ी आ गई तो पीडि़त ने उसे लौटा दी। पीडि़त ने रुपए रिफंड लेने के लिए गूगल से कस्टमर केयर का नंबर सर्च कर फोन किया। कस्टमर केयर प्रतिनिधि ने पीडि़त से एटीएम कार्ड की जानकारी मांगी। पीडि़त ने डिटेल दे दी। कुछ ही देर में खाते से 10 हजार रुपए कट गए। पीडि़त ने दुबारा फोन किया तो फोन बंद आ रहा था।

ऑनलाइन मंगवाए जूते, डिब्बा निकला खाली
मॉडल टाउन निवासी महेन्द्र कुमार मीणा ने ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से 1049 रुपए के जूते मंगवाए। पीडि़त के घर डिलीवरी पहुंची। जब पीडि़त ने डिब्बा खोला तो वह खाली निकला। इस पर पीडि़त ने डिलीवरीमैन को बुलाया, लेकिन वह डिब्बा लेकर नहीं गया। थोड़ी देर बाद वेबसाइट प्रतिनिधि का फोन आया और उसने रुपए रिफंड करने का झांसा देकर पीडि़त के मोबाइल पर लिंक भेजा। पीडि़त को कहा कि लिंक में अकाउंट की डिटेल भर दीजिए। पीडि़त झांसे में आ गया और डिटेल भर दी। इसके बाद पीडि़त के खाते से 25 हजार रुपए निकलने का मैसेज आ गया।

नया क्रेडिट कार्ड लेते ही जर्मनी में निकले रुपए

जय अम्बे नगर निवासी कमलकांत त्यागी ने बजाज नगर थाने में मामला दर्ज करवाया है। जिसमें बताया कि पीडि़त ने इंडसइंड बैंक से नया क्रेडिट कार्ड लिया था। सात अगस्त को पीडि़त के पास कार्ड पहुंचा और 9 अगस्त को जर्मनी से 4500 यूएस डॉलर यानी 3.30 लाख रुपए निकलने का मैसेज आया। बैंक ने फोन कर इसकी जानकारी दी। 10 अगस्त को बैंक की ओर से क्रेडिट कार्ड का पिन चैंज करने का मैसेज आया। पीडि़त ने बैंक की मिलीभगत का आरोप लगाया है।