स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डेंटल कौंसिल की बनेगी नई आचार संहिता

Anil Chauchan

Publish: Aug 22, 2019 18:02 PM | Updated: Aug 22, 2019 18:02 PM

Jaipur

Dental Council: Rajasthan में जल्द ही Dental Council के लिए New Code of Conduct बनेगा। Corporate Clinics की ओर से की जा रही अनैतिक Practic का मुकाबला करने के लिए रणनीति बनाने पर भी विचार किया जा रहा है। Rajasthan State Dental Council के Friday को होने वाली Conference में एेसे कई प्रस्तावों को मूर्त रूप दिया जाएगा। राजस्थन State Dental Council के अध्यक्ष डॉ. विकास जैफ ने बताया कि सम्मेलन में सीडीई Guide Line के क्रियान्वयन करने, स्टेट उेंटल कौंसिल और डीसीआई के बीच सही समन्वय कायम करने के तरीकों, Indian Dental Registry सहित कई मुद्दों पर चर्चा कर उचित निर्णय लिए जाएंगे।

जयपुर . राजस्थान ( Rajasthan ) में जल्द ही डेंटल कौंसिल ( Dental Council ) के लिए नई आचार संहिता ( New Code of Conduct ) बनेगी। कोर्पोरेट क्लीनिक्स ( Corporate Clinics ) की ओर से की जा रही अनैतिक प्रेक्टिस ( Practic ) का मुकाबला करने के लिए रणनीति बनाने पर भी विचार किया जा रहा है। राजस्थान स्टेट डेंटल कौंसिल ( Rajasthan State Dental Council ) के शुक्रवार ( Friday ) को होने वाले सम्मेलन ( Conference ) में एेसे कई प्रस्तावों को मूर्त रूप दिया जाएगा। राजस्थन स्टेट डेंटल काउंसिल ( State Dental Council ) के अध्यक्ष डॉ. विकास जैफ ने बताया कि सम्मेलन में सीडीई गाइडलाइन ( Guide Line ) के क्रियान्वयन करने, स्टेट उेंटल कौंसिल और डीसीआई के बीच सही समन्वय कायम करने के तरीकों, इण्डियन डेंटल रजिस्ट्री ( Indian Dental Registry ) सहित कई मुद्दों पर चर्चा कर उचित निर्णय लिए जाएंगे।


सम्मेलन में यह होगा खास
आचार संहिता के अमूल चूक बदलाव पर होगी चर्चा
अनैतिम प्रेक्टिस का मुकाबला करने की रणनीति बनेगी
दंत चिकित्सकों के लिए यूनिक आईडी तैयार करने की योजना
डेंटल कौंसिल की नई आचार संहिता बनाने पर चर्चा


राजस्थान स्टेट डेंटल कौंसिल के रजिस्ट्रार डॉ.डी.के.गुप्ता ने बताया कि इस सम्मेलन में देशभर के डेंटिस्ट भाग लेंगे। उन्होंने बताया कि सभी डेंटिस्ट एक यूनिक आईडी तैयार करने की योजना बना रहे हैं ताकि यह पता चल सके कि देश में कितने दंत चिकित्सक कार्यरत हैं। इसका यह भी फायदा होगा कि दंत चिकित्सक भारत के किसी भी शहर में अपनी प्रेक्टिस कर सकेगा, उसे अलग-अलग राज्य में किसी प्रकार का पंजीकरण करवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।