स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

‘इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड’ में नाम दर्ज होेने के बाद डाक टिकट आर्टिस्ट राहुल को मिला एक और अवॉर्ड

Santosh Kumar Trivedi

Publish: Aug 20, 2019 13:11 PM | Updated: Aug 20, 2019 13:14 PM

Jaipur

पिंकसिटी के डाक टिकट आर्टिस्ट राहुल जैन को नेशनल आइकॉनिक पर्सनैलिटी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

जयपुर। पिंकसिटी के डाक टिकट आर्टिस्ट राहुल जैन को नेशनल आइकॉनिक पर्सनैलिटी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। दिल्ली के लाजपत भवन में पुरवार फाउंडेशन की ओर से आयोजित यह सम्मान उन्हें भारत के हैरिटेज संरक्षण क्षेत्र में किए गए नवीनतम प्रयोग के लिए मिला है। उल्लेखनीय है कि यह अवॉर्ड विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली प्रतिभाओं के सम्मान में प्रतिवर्ष राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किए जाता है। 29 साल के राहुल जैन पुराने डाक टिकटों को काम में लेकर विशेष पेंटिंग्स बनाते हैं।

 

देश के विभिन्न हैरिटेज थीम पर आधारित विषयों पर बनाए जाने वाले इस आर्ट वर्क में भारत कि आजादी के बाद से अब तक डाक विभाग की जारी हुए टिकटों को काम में लिया गया। राहुल जैन ने दुनियाभर में अलग अलग विषयों पर जारी हुए 70 वर्षों तक पुराने 2000 डाक टिकटों के साथ नवीनतम प्रयोग करके 24 हेरिटेज पेंटिंग्स की विशेष शृंखला बनाई है। इस नवीनतम प्रयोग के लिए उनका नाम ‘इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड’ में दर्ज हुआ है।

 

इन अलग अलग विषयों पर बनाई पेंटिंग्स में राहुल ने रंगों की जगह देश दुनिया से इकत्रित किए विभिन्न डाक टिकटों का इस्तेमाल लिया है । यह दुनिया की पहली ऐसी आर्ट है जो थीम बेस्ड पुराने डाक टिकटों को काम में लेकर बनाई गई है। मात्र 2 वर्षों के समय में वे अब तक 100 से अधिक हेरिटेज आर्ट बना चुके हैं। इससे पहले इन्हें द प्रेस्टीजियस अवॉर्ड मिल चुका है।

 

राहुल ने इन ‘हेरिटेज आर्ट‘ पेंटिंग्स पर काम शुरू से पहले कई वर्षों तक पुराने डाक टिकट संग्रहित करके उनका कलेक्शन बनाया, जिसमें उनके पास देश की आजादी के बाद से जारी हुए आज तक के सभी टिकट शामिल हैं। विदेश के डाक टिकट संग्रह करने वाले लोगों से सोशल मीडिया के ज़रिए संपर्क करके कई पैन फ्रेंड बनाए व पुराने टिकटों का संग्रह करने लगे। इस तरह से लगभग 40 से अधिक देशों के कई हजार पुराने टिकट एकत्रित हो गए ।