स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फोन पर पुराना दोस्त बताकर शातिर ने लिया झांसे में, ऑनलाइन खाते से उड़ाए एक लाख दस हजार रुपए

abdul bari

Publish: Nov 19, 2019 02:05 AM | Updated: Nov 19, 2019 02:05 AM

Jaipur

एक शातिर ने परिचित बनकर एक पिता-पुत्र के बैंक खाते से एक लाख दस हजार रुपए निकालकर ऑनलाइन चपत ( online fraud in jaipur ) लगा दी। इस संबंध में मानसरोवर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

जयपुर।
एक शातिर ने परिचित बनकर एक पिता-पुत्र के बैंक खाते से एक लाख दस हजार रुपए निकालकर ऑनलाइन चपत ( online fraud in jaipur ) लगा दी। इस संबंध में मानसरोवर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

यह है पूरा मामला ( jaipur crime news )

पुलिस ( jaipur police ) ने बताया कि स्वर्णपथ मानसरोवर निवासी सतीश चंद खंडेलवाल ने मामला दर्ज कराया है। 15 नवंबर को उसके मोबाइल पर एक युवक का कॉल आया। उसने चाकसू से उसका परिचित मीणा बताया। बातचीत नहीं करने का उलहाना देकर बात करता रहा। उसके बाद उसने कहा कि उसका बुआ का लड़का ऑनलाइन पेमेंट एप के जरिए 40 हजार रुपए भेजगा और वह ऑनलाइन पेमेंट एप यूज नहीं करता है। उसके बैंक खाते में रकम डलवाने की कहकर दो दिन बाद आकर ले जाने की बात कही।


बेटे से स्केन करने को कहा

चाकसू में पीड़ित का दोस्त मीणा होने के कारण वह झांसे में गया। घर पर मेहमान आने के कारण बेटे को मोबाइल पकड़ाकर चला गया। वॉट्सएप पर बार कोड भेजकर उसके बेटे से स्केन करने को कहा। स्केन करने पर बैंक खाते से तीन बार में 90 हजार रुपए निकाल गए।


शातिर की तलाश जारी

रुपए निकलने की बात कहने पर शातिर ने उसके बेटे को रुपए वापस भेजने की बात कहकर पेटीएम खाते में 20 हजार रुपए जमा करवाने की कही। बातों में आकर 19 हजार 901 रुपए जमा करवा दिए। इसके बाद भी रुपए नहीं आने पर संपर्क साधा, तो मोबाइल नंबर बंद मिला। ऑनलाइन ठगी का पता चलने पर पीडि़त ने मामला दर्ज कराया। पुलिस मोबाइल नंबर के आधार पर शातिर की तलाश कर रही है।

इधर, कार का झांसा देकर ठगे तीन लाख


दूसरी ओर जयपुर में ही ऑनलाइन आए विज्ञापन को देखकर कार खरीदने की मंशा में एक युवक से शातिर ठग ने तीन लाख रुपए ठग लिए। इस संबंध में सांगानेर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

पुलिस ने बताया कि तिरुपति बालाजी नगर निवासी राजेंद्र वर्मा ने मामला दर्ज कराया है। उसके फेसबुक अकाउंट पर कार के विज्ञापन का लिंक आया। लिंक ओपन करके अपने मोबाइल नंबर अपलोड कर दिए। उसके बाद ममराज नाम की आर्मी आईडी, पेन कार्ड, आधार कार्ड व गाड़ी की फोटो भेजी। भरोसा होने पर कार का सौदा 3 लाख 80 हजार रुपए में तय हुआ।


शातिर ने झांसा देकर रजिस्ट्रेशन, सिक्योरिटी व डिलीवरी चार्ज के नाम पर 2 लाख 88 हजार रुपए बैंक खाते में ऑनलाइन पेमेंट एप के जरिए डलवा लिए। गाड़ी भेजने के लिए और रुपए जमा कराने का दबाव बनाने लगा। मना करने पर केस में फंसाने की धमकी देकर रुपए मांगना शुरू कर दिया। ठगी का शिकार होने का पता चलने पर पीडि़त ने पुलिस की शरण ली। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

यह खबरें भी पढ़ें...

रिश्तेदार ही बना दरिंदा: चलती बस में 12 साल की बालिका से किया बलात्कार


अपहरण कर युवक ने किया युवती से बलात्कार, पुलिस ने दबोचा


खुशियां बदलीं मातम में: सुहागन बनने के चौथे दिन उजड़ा सुहाग, नव-नवेली दुल्हन का रो-रो कर बुरा हाल

[MORE_ADVERTISE1]