स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लकी ड्रॉ में कार का लालच युवक को पड़ गया भारी, गंवा बैठा पांच लाख रुपए

Deepshikha

Publish: Sep 22, 2019 16:19 PM | Updated: Sep 22, 2019 16:19 PM

Jaipur

Jaipur News Updates : कार निकलने का लालच देकर युवक को जालसाजों ने अपने जाल में फंसाया और अलग-अलग खातों में 4.80 लाख रुपए डलवा लिए

 

जयपुर. Jaipur Crime News: लकी ड्रॉ में लग्जरी कार निकलने का लालच देकर युवक को जालसाजों ने अपने जाल में फंसाया और अलग-अलग खातों में 4.80 लाख रुपए डलवा लिए। जय अम्बे नगर निवासी नवनीत कुमार भारद्वाज ने साइबर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई। पीड़ित के पास एक कंपनी का ईनाम में लक्जरी कार निकलने का मैसेज ( fraud in Jaipur ) आया। थोड़ी देर बाद कंपनी से कार कीमत 12.60 लाख रुपए बताई।

अकाउंट वेरीफाई करने के लिए पीड़ित के मोबाइल पर एक अकाउंट नंबर भेजा और 6500 रुपए जमा करवाने को कहा। बातों में फंसाकर जालसाजों ने पीड़ित से 4.80 लाख रुपए जमा करवा लिए। झारखंड से वपुन गरनाइक का फोन आया उसने खुद को आरबीआइ बैंक जमशेदपुर में होना बताया। उसने चालीस हजार और मांगे, तो पीडि़त ने मना कर दिया।

सोशल मीडिया पर बाइक पसंद की, बदमाशों ने 92 हजार रुपए ठगे

( Cyber Crime ) विश्वकर्मा थाना इलाके में युवक ने बाइक खरीदने के लिए सोशल मीडिया पर दिए गए लिंक पर क्लीक किया और दिए गए नंबर पर बात की। बदमाश ने बाइक डिलीवरी के नाम पर अलग-अलग चार्ज लगाते हुए 92 हजार रुपए ऑनलाइन पैमेंट ऐप से जमा करवा लिए। ठगी का अहसास होने पर युवक ने पुलिस का सहारा लिया।

पुलिस ने बताया कि पीड़ित कार्तिक नगर निवासी कमल कुमार ने फेसबुक पेज पर मार्केट पैलेस नाम से लिंक पर क्लीक कर बाइक पसंद की। बाइक खरीदने के लिए पीड़ित ने मैसेंजर पर मैसेज किया। थोड़ी देर बाद पीडि़त के पास मोबाइल नंबर आया। पीड़ित ने उससे बात की तो युवक ने धीरज कुमार मीणा नाम बताया और खुद को जैसलमेर बीएसएफ में पोस्टिंग होना बताया।

18 सिंतबर को डिलीवरी देने के लिए युवक ने आर्मी की फास्ट डिलीवरी सर्विस स्लीप भेज दी और 3100 रुपए जमा करवाने को कहा। पीड़ित ने ऑनलाइन पैमेंट ऐप से जमा करवा दिए। उसी दिन शाम को साहिल नाम के व्यक्ति का फोन आया उसने कहा आप बाइक का पूरा पैसा भेजो। पीडि़त ने 22 हजार रुपए जमा करवा दिए। इसके बाद जालसाजों ने सिक्योरिटी, जीएसटी, डिलीवरी चार्ज के नाम पर 92 हजार रुपए जमा करवा लिए।