स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीएम गहलोत ने फिल्म ‘सांड की आंख‘ को जीएसटी से छूट देने की मंजूरी दी

Firoz Khan Shaifi

Publish: Oct 10, 2019 19:38 PM | Updated: Oct 10, 2019 19:38 PM

Jaipur

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महिला सशक्तीकरण एवं खेल पर आधारित फिल्म ‘सांड की आंख’ को प्रदेश के मल्टीप्लैक्स तथा सिनेमाघरों में प्रदर्शन पर लगने वाले राज्य माल एवं सेवा कर (एसजीएसटी) से छूट प्रदान करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महिला सशक्तीकरण एवं खेल पर आधारित फिल्म ‘सांड की आंख’ को प्रदेश के मल्टीप्लैक्स तथा सिनेमाघरों में प्रदर्शन पर लगने वाले राज्य माल एवं सेवा कर (एसजीएसटी) से छूट प्रदान करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

यह फिल्म ग्रामीण परिवेश की दो महिलाओं के जज्बे और उनके संघर्ष की कहानी पर आधारित है। इसमें बताया गया है कि कैसे उत्तरप्रदेश के बागपत जिले के जौहरी गांव की दो वृद्ध महिलाएं चन्द्रो तोमर और प्रकाशी तोमर निशानेबाजी सीखती हैं , गांव की बालिकाओं में आत्मविश्वास जगाती हैं और उन्हें खेलों को अपनाने के लिए प्रेरित करती है। यह फिल्म नारी सशक्तीकरण और सामाजिक मानसिकता में बदलाव का चित्रण करती है।


बता दें कि राज्य सरकार ने इससे पहले गरीब पृष्ठभूमि के मेधावी विद्यार्थियों को आईआईटी की परीक्षा के लिए निःशुल्क कोचिंग देकर उनके भविष्य निर्माण पर आधारित फिल्म ‘सुपर-30’ और महिलाओं में हाईजीन को बढ़ावा देने वाली फिल्म ‘पेडमैन’ को भी मल्टीप्लैक्स एवं सिनेमाघरों में प्रदर्शन के लिए राज्य माल एवं सेवा कर से मुक्त किया था।


मुख्यमंत्री ने किया पोस्टर का विमोचन
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह-2019 के अवसर पर मनोचिकित्सा केन्द्र जयपुर की ओर से तैयार आत्म हत्याओं पर रोकथाम के उपायों से संबंधित पोस्टर का विमोचन किया।

मुख्यमंत्री ने मनोचिकित्सा केन्द्र जयपुर के इस प्रयास को सराहा और कहा कि आधुनिक जीवन शैली में अवसाद के कारण आत्महत्या की प्रवृत्ति बढ़ रही है। आत्महत्याओं पर रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करने की दिशा में ऐसे प्रयास कारगर साबित हो सकते हैं।