स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नियमों के विपरीत रुफ-टॉप रेस्टोरेंट बंद करे सरकार-हाईकोर्ट

Mukesh Sharma

Publish: Nov 18, 2019 18:06 PM | Updated: Nov 18, 2019 18:06 PM

Jaipur

(Rajasthan Highcourt) हाईकोर्ट ने जयपुर शहर में(rooftop restautrant) रुफ-टॉप रेस्टोरेंट को नियमों के विपरीत बताते हुए सरकार को इन रेस्टोरेंट को (Shudown) बंद करने को कहा है। मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति और न्यायाधीश महेन्द्र गोयल की बैंच ने यह निर्देश काफका रेस्टोरेंट की अर्जी की सुनवाई के दौरान दिए।

जयपुर

काफका रेस्टोरेंट को जयपुर नगर निगम ने पिछले दिनों सीज कर दिया है। रेस्टोरेंट की ओर अदालत को बताया गया कि उनकी बिल्डिंग को नगर निगम ने आठवीं मंजिल की अनुमति दे रखी है। रुफ-टॉप रेस्टोरेंट संचालन गलत नहीं है। सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि बिल्डिंग को दी गई अनुमति ही गलत है और छत पर तो किसी भी प्रकार की निर्माण की अनुमति देने का प्रावधान ही नहीं है। एेसे में रुफटॉप रेस्टोरेंट संचालन सिरे से ही गलत है। अदालत ने महाधिवक्ता को मौखिक तौर पर सभी रुफटॉप रेस्टोरेंट को बंद करने को कहा है। उल्लेखनी है कि हाईकोर्ट ने एडवोकेट कुनाल रावत की जनहित याचिका पर २६ जुलाई को बिना फायर एनओसी के चल रहे कोचिंग इंस्टीट्यूट और रेस्टोरेंट आदि को बंद करने और राज्यभर में ३२ मीटर से ऊंची इमारतों के निर्माण पर रोक लगा दी थी। याचिकाकर्ता का कहना है कि जयपुर नगर निगम सहित राज्य में अन्य परिषद और पालिकाओं आदि के पास आग पर काबू करने में काम आने वाली मात्र ३० मीटर तक ऊंची सीढ़ी ही है। इसलिए इससे ज्यादा ऊंची इमारतों में आग लगने की स्थिति में आग पर काबू पाने का कोई उपाय नहीं है।

[MORE_ADVERTISE1]