स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शाम तक बीसलपुर बांध में बढऩे वाला है जलस्तर, लेकिन फिर भी नहीं मिलेगा पूरा पानी!

Dinesh Saini

Publish: Aug 14, 2019 14:26 PM | Updated: Aug 14, 2019 14:27 PM

Jaipur

Bisalpur Dam Water Level: प्रदेशवासिसयों के लिए अच्छी खबर है कि कई जिलों को पानी पिलाने वाले बीसलपुर बांध ( Bisalpur Dam ) में पानी की आवक लगातार जारी है। बांध में बीते तीन चार दिन से रोजाना पांच से सात सेंटीमीटर तक जलस्तर ( Bisalpur Dam Water Supply ) में बढ़ोतरी बनी हुई है...

जयपुर। प्रदेशवासिसयों के लिए अच्छी खबर है कि कई जिलों को पानी पिलाने वाले बीसलपुर बांध ( Bisalpur Dam ) में पानी की आवक लगातार जारी है। बांध में बीते तीन चार दिन से रोजाना पांच से सात सेंटीमीटर तक जलस्तर ( Bisalpur Dam Water Level ) में बढ़ोतरी बनी हुई है। हालांकि वाटर लेवल अब धीमी रफ्तार से बढ़ रहा है। लेकिन नदियों का पानी लगातार बांध में आ रहा है। बीती रात बीसलपुर बांध के कैचमेंट एरिया में 9, मोतीसागर 30 और देवली में 28 मिमी बारिश हुई जिसके कारण आज शाम तक बांध के जलस्तर में तेजी आने की उम्मीद जल संसाधन विभाग ने जताई है। डेम अभी अपने कुल जलभराव से 5.13 मीटर दूर है।

मौसम विभाग ( IMD ) ने अगले 48 घंटे ( Rajasthan Weather Forecast ) में भीलवाड़ा, चित्तौडग़ढ़ और राजसमंद जिलों में भारी बारिश ( Heavy Rain ) होने का अलर्ट जारी किया है। ऐसे में डेम में पानी की आवक में मददगार खारी, डाई, भेड़च और गंभीरी नदी का पानी बीसलपुर बांध तक पहुंचने और बांध का जलस्तर बढऩे की पूरी संभावना है। आज बुधवार को सुबह बांध का जलस्तर 310.34 आरएल मीटर हो गया। वहीं त्रिवेणी में पानी का बहाव 1.70 मीटर उंचाई पर बना रहा।


बांध में आया पानी, लेकिन वितरण में कटौती रहेगी जारी
बीसलपुर बांध में पानी की आवक भले ही जारी हो, लेकिन जयपुर शहर में पेयजल सप्लाई कटौती बंद नहीं होगी। जलदाय विभाग अब अगले दो वर्ष तक के पेयजल सप्लाई के आधार पर प्लानिंग कर रहा है, जिसके तहत बांध का लेवल 313 मीटर होना जरूरी है। इसमें 22.50 टीएमसी पानी होगा। इसी लेवल के आधार पर कटौती बंद करने का फैसला होगा। विभागीय अधिकारियों का तर्क है कि पेयजल कटौती के बाद लोग उसी अनुरूप पानी का उपयोग कर रहे हैं और इसमें फिलहाल किसी तरह दिक्कत नहीं है। शहर में पिछले वर्ष अगस्त से 30 फीसदी तक पानी की कटौती की जा रही है।