स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

25 तक निपटाएं काम, नहीं तो होंगे परेशान! 26-27 सितंबर को बैंक बंद, एटीएम में भी हो सकती है पैसों की किल्लत

Dinesh Saini

Publish: Sep 23, 2019 09:19 AM | Updated: Sep 23, 2019 09:21 AM

Jaipur

Bank Strike On 26-27 Sept 2019: केंद्र सरकार द्वारा बैंकों के विलय के विरोध में 26 और 27 सितंबर को विभिन्न संगठनों ने बैंकों को बंद ( Bank Holidays In September 2019 ) रखने का निर्णय लिया है। राज्य की चार संगठनों ने बंद का ऐलान किया है।

जयपुर। केंद्र सरकार द्वारा बैंकों के विलय के विरोध में 26 और 27 सितंबर को विभिन्न संगठनों ने बैंकों को बंद ( Bank Strike On 26-27 Sept 2019 ) रखने का निर्णय लिया है। राज्य की चार संगठनों ने बंद का ऐलान ( Bank Holidays In September 2019 ) किया है। हालांकि इनके पदाधिकारियों का कहना है सरकार स्तर पर बात चल रही है। ऐसे में यदि हड़ताल होती है अगले सप्ताह पांच दिन तक बैंकों में लोगों का कोई काम नहीं होगा।

इस हफ्ते चार दिनों तक बैंकों में नहीं होगा कोई काम ( Bank Strike in September 2019 )

ऐसे में जिन लोगों को बैंक से लेनदेन करना है, वे 25 सितंबर तक कर लें। इस हफ्ते चार दिनों तक बैंकों में कोई काम नहीं होगा। हड़ताल की वजह से दो दिन बैंक बंद रहेंगे। फिर शनिवार और रविवार की वजह से बैंक नहीं खुलेंगे। 30 सितंबर को भी बैंक में कोई काम नहीं होगा क्योंकि इस दिन अद्र्धवार्षिक समापन है।

एटीएम में भी हो सकती है पैसों की किल्लत
पांच दिन तक बैंक बंद रहने का असर एटीएम ( ATM ) पर भी दिखाई देगा। शुरुआत के एक दो दिन तक भले ही दिक्कत न हो पर बाद इसमें नकदी की किल्लत हो सकती है। बैंक बंद होने से एटीएम में नकदी नहीं डलेगी। चेक क्लियर होने में भी दिक्कत होगी। सात दिन में चेक क्लीयर होने की बात बैंक अधिकारी कह रहे हैं।

एटीएम कार्ड का क्लोन बना खाते से निकाल लिए डेढ़ लाख रुपए
वहीं दूसरी ओर जयपुर में भट्टा बस्ती थाना इलाके में जालसाजों ने एटीएम कार्ड का क्लोन ( ATM Cloning Fraud ) बनाकर पीडि़त के खाते से करीब डेढ़ लाख रूपए निकाल लिए। भट्टा बस्ती निवासी फिरोज ने साइबर थाने में रिपोर्ट दर्ज करा बताया कि शास्त्रीनगर के एटीएम में उसने एक व्यक्ति की मदद लेकर खाते से 13 हजार रुपए निकलवाए और घर आ गया। इसके बाद पीडि़त के खाते से कई बार में 1.45 लाख रुपए निकल गए।