स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्ली में एयर क्वॉलिटी फिर खराब,कश्मीर में भी मौसम बिगड़ा

Rakhi Hajela

Publish: Dec 09, 2019 17:16 PM | Updated: Dec 09, 2019 17:16 PM

Jaipur

दिल्ली में एयर क्वॉलिटी फिर खराब
कश्मीर में भी मौसम बिगड़ा, नहीं हो सकता विमान परिचालन

दिल्ली में सोमवार को वायु गुणवत्ता एक बार फिर खतरनाक स्तर पर पहुंच गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक 582 पर दर्ज किया गया। पूरे दिल्ली में पीएम 2.5 का स्तर अधिकतम 555 पर, जबकि पीएम 10 का स्तर अधिकतम 695 पर पहुंच गया है। दोनों सूचकांक हवा की गुणवत्ता खराब या अच्छा होने के प्रमुख संकेतक हैं। इस बीचए उपनगरीय नोएडा में एक्यूआई का स्तर भी 444 को छू गया, जो हानिकारक है। लेकिन गुरुग्राम 282 के साथ अपेक्षाकृत बेहतर है, लेकिन यह भी अस्वास्थ्यकर है। केंद्रीय एजेंसीए सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्ट सफर ने दिल्ली के लोगों को ज्यादा या भारी कसरत न करने की सलाह दी। एजेंसी ने अपनी एडवाइजरी में कहा, अधिक ब्रेक लें और तेज गतिविधियां कम करें। अस्थमा रोगी बीमारी, खांसी या सांस लेने में तकलीफ होने के लक्षण होने पर चिकित्सा लें। सांस फूलना, सांस लेने में तकलीफ या असामान्य थकान होने पर दिल के मरीज डॉक्टर से मिलें। सफर ने अपने वायु गुणवत्ता अनुमान में कहा,ठंडी और नम स्थितियों में, अगले 24 घंटों के लिए घना कोहरा रहने की संभावना है। एजेंसी ने अपने अनुमान में वायु गुणवत्ता में जल्द सुधार की संभावना से इंकार किया है।

वहीं दूसरी ओर श्रीनगर हवाईअड्डे पर खराब दृश्यता के चलते लगातार तीसरे दिन विमान परिचालन नहीं हो सका। मौसम विभाग के अनुसार, अगले 48 घंटों तक इसी प्रकार घने कोहरे के कारण खराब दृश्यता की स्थिति ऐसे ही बनी रहेगी। कश्मीर मौसम विभाग के निदेशक सोनम लोटस ने बताया, धुंधले मौसम में मंगलवार को हलका सुधार हो सकता है और इसके बाद बुधवार से मौसम में सुधार होना शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले 10 दिनों में कश्मीर में ज्यादातर धीमी हवा की गति के साथ शुष्क मौसम देखा, जिसके चलते धुंध जैसी स्थिति पैदा हुई। मौसम विभाग ने कहा है कि ताजा पश्चिमी विक्षोभ के चलते 12 और 13 दिसंबर को घाटी में बर्फबारी हो सकती है। लोटस ने कहा, मैदानी इलाकों में हल्की और ऊंचाई पर भारी बर्फबारी होगी। जारी की गई सरकारी एडवाइजरी के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ के चलते 10 से 14 दिसंबर तक केंद्र शासित प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख, इसके आसपास के इलाके प्रभावित हो सकते हैं।

[MORE_ADVERTISE1]