स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

माओवाद की खौफ से शिक्षकों ने कर लिया स्कूल से किनारा, वहां की CRPF उठाती है अब ये जिम्मा, इस अनोखे ढंग से

Badal Dewangan

Publish: Sep 16, 2019 16:03 PM | Updated: Sep 16, 2019 16:03 PM

Jagdalpur

माओवादी खौफ के कारण कोलेंग स्कूल में नहीं आ रहे थे शिक्षक, बच्चों को पढ़ाने के लिए जवानों ने उठाया है बीड़ा

 

शेख तैय्यब ताहिर/जगदलपुर. माओवाद प्रभावित इलाकों में से एक कोलेंग में दहशत की वजह से शिक्षक बच्चों को पढ़ाने नहीं आ रहे हैं। अब यहां के बच्चों को पढ़ाने का बीड़ा 80बटालियन के जवानों ने उठाया है। अब वे यहां स्कूलों में समय समय पर पहुंचकर शिक्षक की भूमिका निभा रहें हैं और बच्चों को पढ़ा रहे हैं।

माओवाद की खौफ से शिक्षकों ने कर लिया स्कूल से किनारा, अब ये जिम्मा वहां की पुलिस उठाती है, इस अनोखे ढंग से

जो जिस विषय में पारंगत उसे उस सब्जेक्ट की कमान
80वीं बटालियन के कमांडेंट अमिताभ कुमार ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस के दौरान एक कार्यक्रम में जानकारी मिली की स्कूल में शिक्षकों की कमी हैं। वहीं माओवादी दहशत की वजह से यहां या तो यहां शिक्षक आते नहीं आते भी हैं तो दहशत में वे पढ़ा नहीं पाते। स्कूलों में बच्चों को शिक्षा देने के लिए जवानों को तैयार किया गया और अब कोलेंग व आसपास के छात्र-छात्राओं को यही जवान पढ़ा रहे हैं। इतना ही नहीं सीआरपीएफ बटालियन में कई ऐसे जवान है जो विषय विशेषज्ञ हैं जिनको कमांडेंट अमिताभ कुमार खाली वक्त में बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल जाने के निर्देश दिए हैं। यह लगातार पढ़ा भी रहे हैं।

माओवाद की खौफ से शिक्षकों ने कर लिया स्कूल से किनारा, अब ये जिम्मा वहां की पुलिस उठाती है, इस अनोखे ढंग से

अब शत प्रतिशत रिजल्ट का रखा है लक्ष्य
कमांडेंट का कहना है कि बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए विशेषज्ञों का चुनाव कर पढ़ाने का जिम्मा सौंपा गया है। इसलिए अब उन्होंने आगामी वर्ष में परीक्षा फल भी शत-प्रतिशत होंगे। इतना ही नहीं उनका कहना है कि पुलिस के इसी तरह के प्रयास का नतीजा है कि अब वे शुद्ध पेयजल से लेकर सडक़ निर्माण की मांग मुखर हो कर कर रहे हैं और इसमें जवानों के साथ मिलकर अपनी सहभागिता निभा रहे हैं।

माओवाद की खौफ से शिक्षकों ने कर लिया स्कूल से किनारा, अब ये जिम्मा वहां की पुलिस उठाती है, इस अनोखे ढंग से

पुलिसिंग से हटकर चल रहे इस काम को देख ग्रामीणों में खुशी की लहर
बस्तर में यह पहली ही बार हो रहा होगा कि पुलिसिंग से हटकर अब जवान छात्रों में शिक्षा की अलख जगा रहे हैं। पढ़ाने वाले जवानों की माने तो अब शिक्षा की बात नहीं बल्कि इससे एक कदम आगे गुणवत्ता की बाच कर रहे हैं। सीआरपीएफ के यह जवान कक्षा नवमी और कक्षा दसवीं के छात्र छात्राओं को पढ़ाना शुरू किया है। जवानों के इस कार्य को देखते हुये गांव वाले भी काफी खुश हैं। जवानों के द्वारा पढ़ाए जाने से छात्र-छात्राओं का मनोबल भी बढ़ेगा। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि अब फिर से उनमें बच्चों को अच्छा और बड़ा इंसान बनाने का सपना फिर से पूरा होता नजर आ रहा है।

माओवाद की खौफ से शिक्षकों ने कर लिया स्कूल से किनारा, अब ये जिम्मा वहां की पुलिस उठाती है, इस अनोखे ढंग से