स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बस्तर की बेटी नैना ने एशिया की दूसरी सबसे ऊंची चोटी माउंट कैथड्रेल पर फहराया तिरंगा

Badal Dewangan

Publish: Aug 19, 2019 11:21 AM | Updated: Aug 19, 2019 11:21 AM

Jagdalpur

एशिया (Asia) के दूसरे बड़े बारा शिगरी ग्लेशियर (Glacier) के 6100 मीटर ऊंचे माउंट कैथेड्रल (Mount cathedral) के मुकाम पर पहुंची बस्तर की बेटी नैना, आर्थिक तंगी के चलते माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) की चढ़ाई नहीं कर पाई।

जगदलपुर. कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों। दुष्यंत कुमार की लिखी यह पंक्ति बस्तर की बेटी नैना सिंह धाकड़ पर सौ फीसदी सटीक बैठती है। नैना का सपना माउंड एवरेस्ट (Mount Everest) फतह करना था लेकिन आर्थिक तंगी के चलते वे पिछले दो साल से इस मिशन पर नहीं जा पा रही थीं। माउंट एवरेस्ट के लिए उनका जज्बा कायम था। इस जज्बे की वजह उनके सामने पेश आ रही अड़चनें थीं। इसी जज्बे ने नैना को एशिया के दूसरे सबसे बड़े हिमाचल के बारा शिगरी ग्लेशियर (Bara Shigri Glacier) की माउंट कैथेड्रल की 6100 मीटर ऊंची चोटी पर पहुंचा दिया। 15 अगस्त को उतरते वक्त 4300 मीटर की ऊंचाई पर तिरंगा फहराया।

खराब मौसम के बावजूद 25 दिनों में पूरा किया
एशिया में सियाचीन ग्लेशियर (Siachen Glacier) के बाद शिगरी का नंबर आता है। यहां की चोटी पर चढ़ाई बेहद मुश्किल है, जिसे नैना ने खराब मौसम के बावजूद 25 दिनों में पूरा किया। बस्तर जिले के छोटे से गांव टकरागुड़ा के एक सामान्य परिवार से विमला सिंह की बेटी ने यह कारनामा कर बस्तर समेत पूरे राज्य को गौरान्वित होने का अवसर दिया है। नैना का प्रयास माउंट एवरेस्ट फतह करने के लिए जारी था और इसी बीच इंडियन माउंटेनरिंग फाउंडेशन (Indian Mountaineering Foundation) ने बारा शिगरी की चढ़ाई के लिए उनका चयन कर लिया। नैना के साथ माउंटेन ट्रैकर्स (Mountain trackers) की पूरी टीम थी। सभी ने चढ़ाई के दौरान कई मौके पर क्लीन हिमालय का संदेश देते हुए वहां फैले कचरे की सफाई की। साथ ही बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश भी दिया।

दुनिया के सबसे ऊंचे लेह खारदुंगला मोटरेबल पास में फहरा चुकी हैं तिरंगा
2018 में नैना ने माउंट एवरेस्ट के लिए प्रयास किया। पैसों का इंतजाम नहीं हो पाया और वे चूक गईं। इसके बाद भी उनका जज्बा कम नहीं हुआ और नैना ने वो कर दिखाया जो अब तक पूरे छत्तीसगढ़ में किसी ने नहीं किया है। नैना १३ दिन साइकिल चलाकर मनाली से लेह खारदुंगला पहुंच गईं। यह दुनिया का सबसे ऊंचा मोटरेबल पास यानी दर्रा है। इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 5602 मीटर है। यहां भी नैना ने 15 अगस्त को ही हमारे तिरंगा फहराया। इसके अलावा उन्होंने लेह लद्दाखकी सबसे ऊंची चोटी माउंट स्टॉक कांगरी 6153 मीटर और माउंट गोलेप कांगड़ी 5950 मीटर पर तिरंगा लहराया।

आर्थिक मदद मिले तो पूरा हो सकता है माउंट एवरेस्ट फतह का सपना
बस्तर की बेटी पूरे राज्य का नाम रोशन कर रही है लेकिन उसकी आर्थिक स्थिति में सुधार लाने कभी कोई प्रयास नहीं हुआ। अब तक नैना ने जितनी भी ट्रैकिंग की है, उसमें किसी ना किसी कंपनी ने ही उन्हें स्पांसर किया है। नैना कहती हैं कि अगर उन्हें पर्याप्त आर्थिक मदद मिल जाए तो माउंट एवरेस्ट फतह करने का उनका सपना पूरा हो सकता है। इसके साथ ही नैना ६ देशों की साइकिल यात्रा भी पूरी करना चाहती हैं। इसके लिए भी उन्हें मदद की दरकार है।