स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Indian Railway: जब ट्रेन के स्लीपर कोच में की फायरिंग, यात्री घायल

poonam soni

Publish: Jul 20, 2019 11:55 AM | Updated: Jul 20, 2019 11:55 AM

Itarsi

करेली-गाडरवाड़ा के बीच अज्ञात आरोपी ने ट्रेन के स्लीपर कोच में की फायरिंग

इटारसी. गोरखपुर से लोकमान्य तिलक टर्मिनस जा रही 15018 काशी एक्सप्रेस में गाडरवारा के पहले शुक्रवार रात में गोली चलने की घटना सामने आई है। अज्ञात बदमाश ने ट्रैन के एस-7 कोच में चढ़कर फायर किया और भाग गया। गोली पहल छत से टकराई फिर बर्थ पर सो रहे यात्री को जा लगी। जिस समय गोली चली लगभग सभी यात्री सो रहे थे। उनकी धमाके की आवाज से नींद खुली। गाडरवाड़ा जीआरपी ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इधर इस घटना के बाद आरोपी की तलाश में ट्रेन के इटारसी पहुंचने पर पूरी ट्रेन की सर्चिंग की गई।

 

यह थी घटना
पुलिस क अनुसार घटना शुक्रवार रात करीब पौने दो बजे की है। एस-7 कोच की वर्थ ६५, ६६ और 67 का उत्तरपदेश के जौनपुर जिले के ग्राम रामपुर निवासी यात्री सुनील चौधरी अपनी पत्नी और परिवार के साथ कल्याण तक की यात्रा के लिए आरक्षण कराया था। साढ़े आठ बजे वह खाना खाकर सो गए थे। सुनील गेट की तरफ सिर करके वर्थ नंबर 67 पर सो रहा था। रात करीब पौने दो बजे तेज धमाके के साथ सुनील की नींद खुली। उसे लगा कि किसी का मोबाइल फटा है। वह हड़बड़ाकर उठा। कुछ देर बाद उसके सिर से खून बहता हुआ दिखा तो उसने पत्नी को बताया। पत्नी ने 182 नंबर पर फोन कर सूचना दी। 15-20 मिनट बाद ट्रेन गाडरवाड़ा पहुंची, जहां इलाज कराने उतरा। सामने वाली वर्थ पर मौजूद यात्री ने बताया था कि किसी ने दरवाजे के पास से गोली चलाई थी जो पहले छत पर लगी थी। फर्स पर खाली कारतूस भी मिला है और छत पर गोली टकराने का निशान भी था। गोली का खोखा जीआरपी ने बरामद कर लिया है। गाडरवारा जीआरपी टीआई बीपी पांडे ने बताया कि इस मामले में सुनील चौधरी की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है। कोच में गोली तो चली है लेकिन किसी यात्री ने गोली चलते हुए नहीं देखी। ट्रेन में इस तरह से अज्ञात आरोपी द्वारा गोली चलाने की घटना से टे्रनों की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

 

यहां मिला मैसेज इटारसी में हुई सर्चिंग
गाडरवारा से इटारसी जीआरपी को मैसेज मिला। ट्रेन सुबह 5 बजकर 20 मिनट पर इटारसी पहुंची। यहां पर आरपीएफ और जीआरपी की संयुक्त टीम ने कोच के यात्रियों से पूछतांछ की। साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से पूरी ट्रेन में सर्चिंग की गई। कोच के यात्रियों ने तेज धमाके की बात तो बताई लेकिन उन्होंने किसी को गोली चलाते हुए नहीं देखा। जीआरपी का कहना है कि यात्री को गोली नहीं लगी है बल्कि कोच में गोली चलने की वजह से निकला नटबोल्ट यात्री के सिर पर लग गया। जिससे उसे चोट आई। प्राथमिक उपचार के बाद यात्री को छुट्टी दे दी गई।

 

कंट्रोल से मैसेज मिलने पर सुरक्षा के मद्देनजर पूरी ट्रेन में सर्चिंग की गई लेकिन कोई संदिग्ध नहीं मिला।
निधि चौकसे, आरपीएफ पोस्ट प्रभारी