स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छह स्पीड ब्रेकर भी रफ्तार पर नहीं लगा पा रहे लगाम

Rajendra Singh Parihar

Publish: Jul 18, 2019 16:24 PM | Updated: Jul 18, 2019 16:24 PM

Itarsi

प्रशासन ने बनाए स्पीड ब्रेकर फिर भी डिवाइडर पर चढ़ रहे वाहन, सड़क पर डामरीकरण होने से कम हो गई डिवाइडर की ऊचाई, मोड भी है परेशानी

इटारसी. खेड़ा में बने डिवाइडर पर वाहनों के चढऩे का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। हादसों को रोकने के लिए प्रशासन ने स्पीड ब्रेकर तो बनवाए लेकिन मंगलवार देर रात पुरानी इटारसी में शनि मंदिर के पास भी एक डंपर डिवाइडर पर चढ़ गया। साल की शुरूआत से अब तक इस तरह की एक दर्जन से ज्यादा घटनाएं हो चुकी है।
ये हो सकते हैं कारण
स्पीड ब्रेकर की दूरी अधिक- स्पीड ब्रेकर और डिवाइडर की दूरी अधिक है। ब्रेकर पर वाहन चालक रफ्तार कम करते हैं लेकिन दोबारा वाहन रफ्तार पकड़ लेता है इसके बाद डिवाइडर आते हैं जिससे चालक को संभलने का मौका नहीं मिल पाता।
रोशनी की भी समस्या- खेड़ा क्षेत्र में जिस जगह डिवाइडर शुरू होते हैं वहां रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। अंधेरे की वजह से वाहन चालकों को डिवाइडर की जानकारी नहीं मिल पाती और वे डिवाइडर पर चढ़ जाते हैं।
संकरा हो जाता है हाइवे- जिस जगह डिवाइडर बने हैं वहां हाइवे अपेक्षाकृत संकरा है। इस वजह से हाइवे के दोनों ओर खड़े वाहनों की वजह से वाहन डिवाइडर पर चढ़ जाते हैं। मंगलवार रात की घटना भी इस वजह से ही हुई थी।
कम हो गई है ऊंचाई- नेशनल हाइवे ६९ के मरम्मत और डामरीकरण की वजह से सड़क की मोटाई अधिक हो गई है जिससे डिवाइडर की ऊंचाई कम हो गई। अब वाहन के जरा भी अनियंत्रित होने पर वे डिवाइडर पर चढ़ जाते हैं।
नहीं है कोई साइन बोर्ड- हाइवे पर जहां डिवाइडर शुरू होते हैं उनके पहले कोई साइन बोर्ड नहीं लगे है। बाहर से आने वाले वाहन चालकों को हाइवे पर पता ही नहीं चलता कि आगे डिवाइडर है। रात के समय रफ्तार में दौड़ते वाहन इसका शिकार होते हैं।