स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आरटीआई से खुलासा : 31 फीसदी मेल, 33 फीसदी पैसेंजर गाड़ियां रहीं लेट!

Saurabh Sharma

Publish: Oct 19, 2019 11:50 AM | Updated: Oct 19, 2019 11:50 AM

Industry

  • 2016-17 में 76.69 फीसदी, वर्ष 2017-18 में 71.39 फीसदी ट्रेन समय पर चलीं
  • नीमच जिले के आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने मंत्रालय से मांगा था ब्यौरा

नई दिल्ली। भारतीय रेल का मूलमंत्र 'संरक्षा, सुरक्षा और समय पालन' है, मगर समय पालन के मामले में इस विभाग की हालत अच्छी नहीं है। बीते साल (2018-19) एक्सप्रेस-मेल गाडिय़ों में से 31 फीसदी और पैसेंजर गाडिय़ों में लगभग 33 फीसदी गाडिय़ां अपने तय समय पर नहीं चलीं। यह खुलासा एक आरटीआई आवेदन के जरिए हुआ है। रेल मंत्रालय की तरफ से उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, तीन सालों में बीते साल मेल-एक्सप्रेस व पैसेंजर गाडिय़ां समय पालन के मामले में फिसड्डी रही हैं। वहीं वर्तमान साल में अब तक की स्थिति में कुछ सुधार आया है।

यह भी पढ़ेंः- लगातार दूसरे दिन सस्ता हुआ डीजल, पेट्रोल की कीमत में कोई बदलाव नहीं

मध्य प्रदेश के नीमच जिले के आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने भारतीय रेल के समय पालन के संदर्भ में रेल मंत्रालय से ब्यौरा मांगा था। मंत्रालय की तरफ से उपलब्ध कराए गए ब्योरे के अनुसार, विभिन्न श्रेणियों की मेल-एक्सप्रेस, पैसेंजर, राजधानी, शताब्दी, गरीबरथ और सुविधा रेल में से कोई भी रेलगाड़ी ऐसी नहीं है, जो समय पालन के मामले में खरी उतरी हो।

यह भी पढ़ेंः- दूसरी तिमाही में RIL को करीब 18 फीसदी का मुनाफा, 1.63 लाख करोड़ रुपए की हुई कमाई

रेल मंत्रालय की ओर से मिले जवाब के अनुसार, मेल-एक्सप्रेस गाडिय़ों में से वर्ष 2016-17 में 76.69 फीसदी, वर्ष 2017-18 में 71.39 फीसदी और वर्ष 2018-19 में 69.23 फीसदी ही समय पर चलीं। हालांकि इस साल कुछ सुधार नजर आ रहा है और सितंबर तक समय पालन का फीसदी 74.21 फीसदी है।

यह भी पढ़ेंः- नए शिखर पर पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार, 1.87 अरब डॉलर की हुई वृद्धि

पैसेंजर गाडिय़ों का हाल भी कुछ ऐसा ही है। वर्ष 2016-17 में 76.53 फीसदी, वर्ष 2017-18 में 72.66 फीसदी और वर्ष 2018-19 में 67.5 फीसदी पैसेंजर गाडिय़ां ही समय पर चलीं। वहीं इस साल सितंबर तक समय पालन के मामले में 70.55 फीसदी गाडिय़ां समय पर चलीं।

यह भी पढ़ेंः- अध्यात्मिक गुरू की कंपनियों पर छापा, 500 करोड़ की अघोषित संपत्ति का खुलासा

भारतीय रेल की सबसे बेहतर और सुविधा सम्पन्न गाडिय़ां राजधानी और शताब्दी भी समय पालन के मामले में कमजोर साबित हो रही हैं। राजधानी एक्सप्रेस गाडिय़ां वर्ष 2016-17 में 68.55 फीसदी, वर्ष 2017-18 में 69.99 फीसदी और वर्ष 2018-19 में 76.58 फीसदी ही समय पर चलीं।

यह भी पढ़ेंः- मार्क जुकरबर्ग का बड़ा बयान, फेसबुक पर आने वाले विज्ञापनों में नहीं होती पूरी सच्चाई

वहीं वर्तमान वर्ष में सितंबर तक यह फीसदी सुधर कर 81.43 हो गया है। शब्तादी एक्सप्रेस का हाल भी ऐसा ही है। वर्ष 2016-17 में 85.96 फीसदी, वर्ष 2017-18 में 82.30 फीसदी और वर्ष 2018-19 में 86.93 फीसदी ही समय पर चली हैं। इस साल सितंबर तक हालांकि यह आंकड़ा 90.94 फीसदी रहा।

इसी तरह गरीब रथ बीते तीन सालों में सबसे बेहतर स्थिति में वर्ष 2016-17 में रहीं, जब समय पर स्टेशन पहुंचने का इनका रिकॉर्ड 66.81 फीसदी रहा। सुविधा ट्रेन का समय पालन के मामले में सबसे बेहतर प्रदर्शन वर्ष 2017-18 में रहा, जब 67.5 फीसदी गाडिय़ां समय पर पहुंचीं। आरटीआई कार्यकर्ता गौड़ का कहना है, "रोजाना पैसेंजर एवं एक्सप्रेस गाडिय़ों में देश का एक बहुत बड़ा वर्ग यात्रा करता है। इनके समय पालन को लेकर सूचना के अधिकार के जरिए जो जानकारी मिली है, वह पीड़ादायक है।"