स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शराब के शौकीनों के लिए बड़ी खुशखबरी, अब किराना की दुकान से भी खरीद सकेंगे शराब

Shivani Sharma

Publish: Aug 20, 2019 16:30 PM | Updated: Aug 20, 2019 16:44 PM

Industry

  • किराने की दुकानों पर शराब बेचने का प्रस्ताव रखा है
  • झारखंड आबकारी विभाग ने राज्य में किराने की दुकान में शराब बेचने का प्रस्ताव रखा

नई दिल्ली। शराब पीने वालों के लिए लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। झारखंड आबकारी विभाग ने राज्य में किराने की दुकानों में शराब की बिक्री की अनुमति देने का प्रस्ताव रखा है। सरकार की ओर से जल्द ही इसको पास किए जाने की उम्मीद है। किराने की दुकानों में शराब बिक्री की मुख्यमंत्री से मंजूरी लेने के लिए प्रस्ताव को मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) भेजा गया है। सीएमओ ने कुछ सवालों के साथ आबकारी विभाग को फाइल लौटा दी है।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार

आबकारी विभाग के एक सूत्र ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया, 'प्रस्ताव के अनुसार, 30 लाख रुपये की आय पर जीएसटी दाखिल करने वाली किसी भी किराना दुकान को शराब बेचने का लाइसेंस दिया जा सकता है। यह प्रस्ताव मुख्यमंत्री की अनुमति के लिए भेजा गया है, जो आबकारी विभाग के प्रभारी भी हैं। प्रस्ताव 2018 की आबकारी नीति के संशोधन के रूप में है।'

alcohal

ये भी पढ़ें: किसानों के लिए मोदी सरकार ने खोले खजाने, अब से प्रति हेक्टेयर मिलेंगे 50 हजार रुपये


तीन सालों से चल रहा प्रस्ताव

उल्लेखनीय है कि पिछले तीन वर्षों में झारखंड ने अपनी आबकारी नीति में दो बार संशोधन किया है। पहले जहां लाइसेंस की नीलामी के जरिए शराब बेची जाती थी। इसके बाद 2017 से राज्य सरकार ने सरकारी दुकानों के माध्यम से शराब की बिक्री शुरू की।


राज्य को नहीं मिली कोई खास सफलता

आपको बता दें कि सरकार के इस कदम के साथ राज्य को अपना राजस्व बढ़ाने में कोई खास सफलता हासिल नहीं हो सकी। इसके बाद राज्य ने फिर से अपनी नीति में संशोधन किया और एक अप्रैल, 2019 से शराब की दुकानों की नीलामी भी शुरू कर दी।


ये भी पढ़ें: SBI में खाता रखने वालों के लिए खुशखबरी, फेस्टिव सीजन में बैंक लोन लेने पर दे रहा भारी छूट


खुल सकती हैं नई दुकानें

नए प्रस्ताव के अनुसार, किराने की दुकानों को लाइसेंस देकर पंचायत स्तर पर भी शराब की दुकानें खोली जा सकती हैं। इस तरह से राज्य सरकार ने शराब की बिक्री पर प्रति वर्ष 1,500 करोड़ रुपये का राजस्व हासिल करने का लक्ष्य रखा है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App