स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बैंक्रप्सी में फंसी आरकॉम के लिए मुकेश अंबानी लगा सकते हैं बिड

Saurabh Sharma

Publish: Jul 17, 2019 11:54 AM | Updated: Jul 17, 2019 11:54 AM

Industry

बैंक्रप्सी-इंसॉल्वेंसी प्रक्रिया के दौर से गुजर रही Rcom के लिए बिड करने वाली Mukesh Ambani की Ril पहली कंपनी बन सकती है।

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani ) की रिलायंस इंडस्ट्रीज ( Relinace Industries ) रिलायंस कम्युनिकेशन ( आरकाॅम ) के लिए बिड कर सकती है। इसी के साथ ही दिवालिया हो चुकी अनिल अंबानी ( Anil Ambani ) की कंपनी आरकॉम के लिए बिड करने वाली आरआईएल ( RIL ) पहली कंपनी बन जायेगी। सूत्रों की मानें तो रिलायंस जियो ( Reliance Jio ) की योजना आरकॉम की एसेट्स के लिए बोली लगाने की है जो दिवालिया प्रक्रिया के दौरान बिक्री के लिए आएगी।

दोनों भाईयों के लिए यह अधिग्रहण दो तरह से महत्वपूर्ण हैं। पहला यह है कि आरकॉम के एयरवेव और टावर रिलायंस जियो की सेवाओं को बढ़ावा देंगे, जो 5जी को रोल आउट करने के लिए तैयार हो रही है। वहीं दिवालिया कंपनी के पास नवी मुंबई में स्थित धीरूभाई अंबानी नॉलेज सिटी में जमीन है, जिसे धीरूभाई अंबानी ने 90 के दशक में खरीदा था।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर लगा ब्रेक, डीजल पर राहत जारी

सूत्रों का कहना है कि जियो ने अपने फाइबर और टॉवर्स को दो निवेश ट्रस्टों ( InvITs ) को ट्रांसफर कर दिया। ताकि जियो के कर्ज को कम कर आरकॉम और 5जी में निवेश के लिए जगह मिल सके। सूत्रों की मानें तो जियो का कानूनी विभाग दिवाला प्रक्रिया में शामिल तौर-तरीकों का बारीकी से निरीक्षण कर रहा है।

आपको बता दें कि मार्च के महीने में मुकेश अंबानी ने अपने छोटे भाई अनिल अंबानी को 580 करोड़ रुपए की मदद की थी। जिसे एरिक्सन को भुगतात कर अनिल अंबानी जेल जाने से बचे थे। वहीं आरकॉम का मुकेश अंबानी के साथ भावनात्मक जुड़ाव भी है, क्योंकि उसने 2000 के दशक के शुरुआती दिनों में टेलीकॉम इंडस्ट्री में अविभाजित परिवार के सपने की कल्पना की थी।

यह भी पढ़ेंः- IMF Chief क्रिस्टीन लेगार्द ने पद से दिया इस्तीफा, यूरोपीयन सेंट्रल बैंक की बनेगी अध्यक्ष

जियो पहले से ही मुंबई सहित 21 सर्किल में 850 मेगाहार्ट्ज बैंड में आरकॉम के एयरवेव्स को यूज कर रहा है। आरकॉम ने अपने कर्ज को डिफ़ॉल्ट करने से ठीक पहले 850 मेगाहार्ट्ज बैंड में से 122.4 मेगाहार्ट्ज स्पेक्ट्रम बेचने के लिए जियो के साथ की 7,300 करोड़ रुपये के सौदे को समाप्त कर दिया था।

उस वक्त उस डील को डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम ने मंजूरी देने से इनकार कर दिया था। क्योंकि जियो ने आरकॉम के पहले के बकाया रकम को देने से इनकार कर दिया था। रिलायंस जियो ने 18,000 करोड़ रुपये के सौदे के तहत 43,000 टेलीकॉम टावरों और आरकॉम के अन्य वायरलेस इन्फ्रास्ट्रक्चर को खरीदने पर भी सहमति जताई थी। आरकॉम ने कनाडा के ब्रुकफील्ड में अपनी अचल संपत्ति का हिस्सा बेचने की भी योजना बनाई थी।

यह भी पढ़ेंः- Share Market Opening: सेंसेक्स, निफ्टी रुपया सपाट स्तर पर खुले, यस बैंक में बढ़त

कर्ज खत्म करने के लिए अपनी संपत्तियों को बेचने के प्लान से फेल होने के बाद 1 फरवरी 2019 को आरकॉम ने दिवालिया प्रक्रिया के लिए फाइल करने का फैसला किया। पिछले महीने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल ने डेलाॅयट के अनीश नानावटी को आरकॉम और उसकी सहायक कंपनियों के लिए रिज़ॉल्यूशन प्रोफेशनल के रूप में नियुक्त किया था।

नए आरपी को 23 जुलाई को एनसीएलटी में दिवाला प्रक्रिया पर एक रिपोर्ट देनी है। कर्जदाताओं ने आरकॉम और उसकी दो कंपनियों रिलायंस टेलीकॉम और रिलायंस इंफ्राटेल में 88,000 करोड़ रुपए का दावा किया है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.