स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मुकेश अंबानी ने रिलायंस में बढ़ाई हिस्सेदारी, 48.87 फीसदी के बन गए मालिक

Shivani Sharma

Publish: Sep 19, 2019 11:50 AM | Updated: Sep 19, 2019 11:51 AM

Industry

  • मुकेश अंबानी ने रिलायंस में 2.71 फीसदी की हिस्सेदारी बढ़ाई
  • अंबानी की कुल हिस्‍सेदारी बढ़कर हुई 48.87 प्रतिशत

नई दिल्ली। एशिया के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी ने एक बार फिर रिलायंस में अपनी हिस्सेदारी बढ़ी दी है। मुकेश अंबानी ने कंपनी में प्रमोटर शेयर्स को 2.71 फीसदी बढ़ाकर 48.87 फीसदी तक कर दिया है। अंबानी के द्वारा लिए गए इस फैसले से कंपनी को काफी फायदा होगा। बता दें कि 13 सितंबर को रिलायंस सर्विसेज एंड होल्डिंग्स ने रिलायंस में 2.71 फीसदी हिस्सेदारी यानी 17.18 करोड़ शेयरों का अधिग्रहण किया है।


शेयर बाजार को दी जानकारी

कंपनी ने इस संबध में शेयर बाजार को जानकारी दी है। शेयर बाजार को जानकारी देते हुए कंपनी ने कहा कि अब हमारी हिस्सेदारी बढ़कर 48.87 फीसदी हो जाएगी। फिलहाल इस समय रिलायंस सर्विसेज एंड होल्डिंग्स को प्रमोटर ग्रुप की फर्म पेट्रोलियम ट्रस्ट कंट्रोल करती है।


ये भी पढ़ें: जुलाई में करीब 117 करोड़ रुपए पहुंची मोबाइल यूजर्स की संख्या, जियो ने किया 85 लाख का इजाफा


अरेंजमेंट स्कीम के तहत किया शामिल

फाइलिंग में जानकारी देते हुए कहा गया कि यह अधिग्रहण एक अरेंजमेंट स्कीम के अनुसार हुआ है और इसमें इसमें रिलायंस को सीधे-सीधे नहीं शामिल नहीं किया गया। फाइलिंग में इस मामले से जुड़ी हुई ज्यादा जानकारियां साझा नहीं की गईं।


देश की दिग्गज कंपनी है रिलायंस

रिलायंस सर्विसेज एंड होल्डिंग्स देश की दूसरी सबसे वैल्युएबल कंपनी है। इसमें अंबानी और उनकी निजी कंपनियों की हिस्सेदारी 30 जून 2019 तक 47.29 फीसदी थी। 30 जून तक विदेशी संस्थागत निवेशकों की कंपनी में हिस्सेदारी 24.4 फीसदी थी। म्यूचुअल फंडों के पास 4.56 फीसदी और बीमा कंपनियों के पास 7.1 फीसदी हिस्सेदारी थी। शेष हिस्सेदारी जनता के पास थी।


ये भी पढ़ें: अमरीका में 10.6 लाख बैरल बढ़ा कच्चे तेल का भंडार, कीमतों में नरमी जारी


कंपनी ने बनाई थी योजना

इससे पहले जुलाई में रिलायंस ने रिलायंस होल्डिंग यूएसए को रिलायंस एनर्जी जेनरेशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन में विलय करके और कंपनी के साथ बाद में विलय की एक समग्र योजना की घोषणा की थी।