स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Jet Airways Crisis: NCLT ने 20 जून तक टाली दिवालिया केस पर सुनवाई

Saurabh Sharma

Publish: Jun 19, 2019 06:42 AM | Updated: Jun 19, 2019 14:31 PM

Industry

Jet Airways Crisis: बैंकों के करीब 8500 करोड़ रुपए के कर्ज में डूबी Jet Airways का मामला अब दिवालिया अदालत में पहुंच चुका है। अब उसकी सुनवाई आज यानी बुधवार से शुरू होगी।

नई दिल्ली। देश की सबसे पुरानी प्राइवेट विमान कंपनी जेट एयरवेज ( Jet Airways Crisis ) की मुश्किलें अब बढ़ती ही जा रही हैं। नेशनल कंपनी लाॅ ट्रिब्युनल ( NCLT ) के मुंबई बेंच ने जेट एयरवेज पर सुनवाई को कल तक यानी 20 जून 2019 तक के लिए टाल दिया है। यह सुनवाई बुधवार को ही होनी तय थी। CNBC TV-18 में अपनी एक रिपोर्ट में इसके बारे में जानकारी दी। दिवालिया अदालत में मामला भारतीय स्टेट बैंक ( SBI ) के नेतृत्व में बने 26 बैंकों के कंसोर्टियम ने एनसीएलटी में भेजा है। आपको बता दें कि जेट एयरवेज पर बैंकों का करीब 8500 करोड़ रुपए बकाया है। जेट एयरवेज की शुरूआत करीब 25 साल पहले टिकट एजेंट के रूप में काम करने वाले नरेश गोयल ने की थी।

यह भी पढ़ेंः- अब मॉल और Super Market से खरीद सकते हैं पेट्रोल-डीजल, मोदी सरकार ने की बड़ी तैयारी

करीब 41 फीसदी गिरे जेट एयरवेज के शेयर
मंगलवार को जेट एयरवेज के कर्जदाताओं द्वारा बकाये की वसूली के लिए दिवाला कार्यवाही शुरू करने का फैसला लिए जाने के कारण कंपनी के शेयर में भारी गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार को कंपनी का शेयर 50 फीसदी से ज्यादा का गोता लगाने के बाद सत्र के आखिर में 40.78 फीसदी की गिरावट के साथ 40.45 रुपये प्रति शेयर पर बंद हुआ। कंपनी ने बताया कि उसके दो स्वतंत्र निदेशक अशोक चावला और शरद शर्मा ने इस्तीफा दे दिया है। यह भी शेयर में गिरावट की वजह रही, क्योंकि इससे कंपनी के दोबारा चालू होने की संभावना धूमिल होने का एक और संकेत है। जेट ने रेग्यूलेटरी फाइलिंग में कहा, "अशोक चावला और शरद शर्मा ने कंपनी के स्वतंत्र निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है जोकि 17 जून 2019 से प्रभावी है।" आपको बता दें कि जेट एयरवेज ने खराब वित्तीय हालत के बाद 17 अप्रैल को अपने सभी संचालन को बंद कर दिया था।

यह भी पढ़ेंः- Cryptocurrency से मोटी कमाई करने का मौका देगा Facebook, एस्ट्रो साइन Libra पर रखा कॉइन का नाम

बैंकों के अलावा भी हैं जेट पर 23 हजार करोड़ रुपए का कर्ज
- बैंकों के 8500 करोड़ ऋण के अलावा जेट एयरवेज पर लगभग 25,000 करोड़ रुपए का कर्ज है।
- एयरलाइन पर माल और सेवाएं देने वालों का 10,000 करोड़ रुपए का कर्ज है।
- कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपए का बकाया है
- पिछले कुछ साल के दौरान जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है।
- जेट एयरवेज के कर्मचारियों की संख्या 23,000 है।
- एयरलाइन पर कुल 36,500 करोड़ रुपए का बकाया है।
- जेट एयरवेज के बेड़े में मात्र 16 विमान हैं, जिनकी कीमत 5,000 करोड़ रुपए है।
- एयरलाइन के बेड़े में शेष 123 विमान पट्टे पर थे।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.