स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब भारत के ई-कॉमर्स बाजार में उतरेगी अलीबाबा, अमेजन और फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों को देगी टक्कर

Shivani Sharma

Publish: Sep 06, 2019 11:00 AM | Updated: Sep 06, 2019 11:00 AM

Industry

  • यूसीवेब के जरिए भारतीय बाजार में उतरेगा अलीबाबा ग्रुप
  • इस समय पेटीएम में अलीबाबा समूह की 30.15 फीसदी हिस्सेदारी

नई दिल्ली। चीन की दिग्गज कंपनी अब भारत में भी अपने कदम बढ़ाने जा रही है। कंपनी यूसीवेब के जरिए देश के ई-कॉमर्स सेक्टर में उतरने की योजना बना रही है। अलीबाबा के भारतीय बाजार में उतरने से देश की दिग्गज कंपनी अमेजन और फ्लिपकार्ट के लिए बड़ी चुनौती होगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि यह कारोबार चालू वित्त वर्ष में ही शरु होने की योजना है।


पेटीएम पर नहीं होगा कोई प्रभाव

यूसीवेब के उपाध्यक्ष हुआइयुआन यांग ने कहा कि कंपनी के ई-वाणिज्य क्षेत्र में उतरने से पेटीएम पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं पड़ेगा। पेटीएम में अलीबाबा समूह की 30.15 फीसदी हिस्सेदारी है। अलीबाबा समूह की स्नैपडील में भी 3 फीसदी हिस्सेदारी है।


ये भी पढ़ें: पीएनबी बोर्ड ने दी मर्जर को मंजूरी, बनेगा देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक


रिलायंस समूह को भी मिलेगी टक्कर

आपको बता दें कि ई-कॉमर्स सेक्टर में भारतीय बाजार में पहले से ही अमरीकी कंपनी अमेजन और फ्लिपकार्ट के बीच काफी टक्कर है और इसी बीच चीन की कंपनी अलीबाबा ग्रुप का भारतीय बाजार में सभी ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए बड़ी चुनौती है। इसके अलावा रिलायंस समूह भी इस मुकाबले में शामिल हैं।

alibaba.jpg

अलीबाबा में ई-कॉमर्स जीन हैं

समूह की परमार्थ इकाई ‘अलीबाबा फाउंडेशन’ द्वितीय ‘फिलैन्थ्रैपी फोरम’ के दौरान यांग ने अलग से कहा, ‘‘ हमारे में अलीबाबा के ई-कॉमर्स जीन मौजूद हैं। हम ई-कॉमर्स से जुड़े नवोन्मेषी कारोबार मॉडल को शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं। इस साल एक नया ई-कॉमर्स उत्पाद देश में शुरू कर देंगे।’’


ये भी पढ़ें: प्लास्टिक का आधार रखने वालों के लिए बुरी खबर, लीक हो सकती हैं सभी जानकारी


चीन की दिग्गज कंपनी अलीबाबा

चीन में अलीबाबा ससबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है। देश में ई-कॉमर्स क्षेत्र का विस्तार तेजी से हो रहा है। डेलॉइट इंडिया और रिटेल असोसिएशन ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2021 तक इसका आकार 84 अरब डॉलर होने की उम्मीद है, जो वर्ष 2017 में यह 24 अरब डॉलर रहा था।


2009 में आया था यूसी ब्राउजर

यूसीवेब का यूसी ब्राउजर भारत में 2009 से काम कर रहा है। चीन को छोड़कर इसके दुनियाभर में 1.1 अरब यूजर्स हैं जिनमें से आधे करीब भारत में हैं। कंपनी का दावा है कि देश में उसके सक्रिय मासिक यूजर्स की संख्या 13 करोड़ है। यूसीवेब के ई-कॉमर्स सेक्टर में उतरने से पेटीएम के कारोबार पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में यांग ने कहा कि ई-कॉमर्स काफी बड़ा क्षेत्र है।