स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पेट्रोल-डीजल के बाद अब सांची ने महंगा किया दूध, ये हैं नए भाव

Hussain Ali

Publish: Sep 21, 2019 13:10 PM | Updated: Sep 21, 2019 13:13 PM

Indore

  • अब आइसक्रीम भी बनाएगा संघ
  • संभागायुक्त ने कहा- सांची के सामने विश्वसनीयता की बड़ी चुनौती
  • दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए 150 नई दुग्ध उत्पादक समिति होंगी गठित

अनिल धारवा @ इंदौर. सांची उपभोक्ताओं को शनिवार से दूध दो रुपए महंगा मिलेगा। सांची ने किसानों से खरीदा जाने वाला दूध 610 रुपए प्रतिकिलो फेट से बढ़ाकर 650 रुपए प्रतिकिलो फेट कर दिया है। यानी किसानों को प्रतिकिलो ढाई रुपए बढक़र मिलेंगे। वहीं संघ द्वारा अब आइस्क्रीम भी बनाई जाएगी। सांची का गोल्ड दूध अभी 50 रुपए उपलब्ध था जो अब 52 रुपए में मिलेगा वहीं स्टैंडर्ड की कीमत 48 की जगह 50 रुपए होगी। इसी के साथ सभी श्रेणी के दूध पर दो-दो रुपए प्रतिलीटर भाव बढ़ाए हैं।

यह जानकारी संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी ने शुक्रवार को इंदौर सहकारी दुग्ध संघ की 36वीं वार्षिक साधारण सभा में दी। उन्होंने बताया कि इंदौर सहकारी दुग्ध संघ (सांची) द्वारा उपभोक्ताओं के लिए 3.50 करोड़ से अधिक की लागत का संयंत्र स्थापित किया जा रहा है। इसमें शासन से 2.53 करोड़ का वित्तीय सहयोग एवं एक करोड़ रुपए दुग्ध संघ के वित्तीय स्रोत से व्यय होगा। उपभोक्ताओं को अब सांची की आइसक्रीम भी मिलेगी। संभाग में दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए 150 नई दुग्ध उत्पादक समितियों का गठन किया जाएगा। इन्हें डेयरी के लिए ऋण भी दिया जाएगा। सांची के दूध विक्रय में 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। दूध से बने अन्य उत्पादों के विक्रय तथा लाभांश में भी वृद्धि हुई है।

fdfdfd

पांच लोगों पर लगाई रासुका

उन्होंने शासन द्वारा चलाए जा रहे मिलावट के खिलाफ अभियान के संबंध में कहा, इसमें संभाग में पांच लोगों पर रासुका की कार्रवाई की गई है। खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत मिलावटखोरों के खिलाफ जुर्माने लगाए जा रहे हैं, वसूली की जा रही है। आज सांची के सामने विश्वसनीयता की बड़ी चुनौती है। हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि उपभोक्ताओं को अपनी पहचान के अनुरूप शुद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण दुग्ध उपलब्ध कराएं। दुग्ध संघ के प्रतिनिधियों ने भी संबोधित किया।

9.11 करोड़ का लाभ

उन्होंने कहा, प्रदेश में केवल इंदौर सहकारी दुग्ध संघ इंदौर द्वारा वर्ष 2013-14 से निरंतर दुग्ध सहकारी समितियों को लाभांश एवं बोनस वितरण किया जा रहा है। वर्ष 2016-17 का 494 करोड़ रुपए लाभांश एवं बोनस मद में भुगतान किया जा रहा है, जिसका लाभ दुग्ध उत्पादक कृषकों को दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियों के जरिए मिलेगा। दुग्ध सहकारी समितियों द्वारा 2018-19 में 9.11 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया गया।

प्रयोगशाला के प्रमाणीकरण की कार्रवाई शुरू

त्रिपाठी ने बताया, दुग्ध संघ की प्रयोगशाला को एनएबीएल (नेशनल एक्रिडिटेशन बोर्ड ऑफ लेबोरेटरी) से प्रमाणीकरण के लिए कार्रवाई शुरू की जा रही है। एनएबीएल प्रमाणीकरण के बाद दुग्ध संघ की प्रयोगशाला को राष्ट्रीय स्तर का दर्जा प्राप्त होगा।