स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चौथे दिन भी कोडवानी का धरना जारी

Nitesh Kumar Pal

Publish: Oct 21, 2019 00:59 AM | Updated: Oct 21, 2019 00:59 AM

Indore

कांग्रेस कार्यालय के ताले तक नहीं खुले

इंदौर.
शहर में लगातार कम होते जा रहे पानी, विनाश को बढ़ावा देते विकास, साफ हवा, मोहल्ला समितियों का गठन और प्रशासन की मनमर्जी के खिलाफ समाजसेवी किशोर कोडवानी का कांग्रेस कार्यालय गांधी भवन पर धरना चौथे दिन भी जारी रहा। कोडवानी की बात सुनने के लिए कांग्रेस नेताओं के कांग्रेस कार्यालय आना तो दूर रविवार को तो कांग्रेस कार्यालय का ताला तक नहीं खुला। वहीं प्रभारी मंत्री ने वादा करने के बाद भी समाजसेवी कोडवानी से रविवार को भी मुलाकात तो दूर उनसे फोन पर भी चर्चा नहीं की।
कांग्रेस नेता प्रभारी मंत्री के झाबुआ उपचुनाव में व्यस्त होने के कारण उनके नहीं आ पाने का बहाना बना रहे थे। लेकिन शनिवार को प्रचार थमने के बाद बाहरी नेताओं को झाबुआ की सीमा से बाहर किए जाने के बाद भी प्रभारी मंत्री बाला बच्चन ने कोडवानी से कोई चर्चा तक नहीं की। कांग्रेस नेताओं ने कोडवानी कीप्रभारी मंत्री से चर्चा करवाई थी उस समय खुद प्रभारी मंत्री बाल बच्चन ने उन्हें 17 अक्टूबर को मिलने का वादा किया थआ. लेकिन प्रभारी मंत्री ने कोडवानी से मुलाकात नहीं की थी। उसके बाद 17 अक्टूबर को कोडवानी फिर से गांधी भवन पहुंचे थे। उस दिन भी उनसे प्रभारी मंत्री ने मुलाकात की बजाए फोन पर दूसरी बार आश्वासन दिया, कि वे 19 अक्टूबर को उनसे मुलाकात करेंगे। लेकिन लिखित में मंत्री की ओर से कोई जवाब नहीं दिया। जिसके बाद कोडवानी ने गुरूवार से ही गांधी भवन पर धरना शुरू कर दिया था। कोडवानी लगातार चौथे दिन भी कांग्रेस कार्यालय गांधीभवन पर धरने पर बैठे रहे। लेकिन कांग्रेस के स्थानिय नेताओं ने भी उनसे इस दौरान कोई चर्चा तक नही की। इसके पहले भी चार दिनों तक कोडवानी ने कांग्रेस कार्यालय पर धरना दिया था। उस समय शहर कांग्रेस के कार्यालय मंत्री ने कोडवानी को प्रभारी मंत्री से मुलाकात कराने का लिखित में आश्वासन दिया था। उससमय प्रदेश की महिला एवं बाल विकास विभाग मंत्री इमरती देवी ने कोडवानी को आश्वासन दिया था कि प्रभारी मंत्री उनसे मुलाकात करेंगे। जिसके चलते 14 अक्टूबर को कोडवानी ने शाम के समय अपना धरना समाप्त कर दिया था, किया था।