स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

50 से ज्यादा लोगों को हुआ डेंगू, MP में कांगो बुखार का भी अलर्ट, डॉक्टरों की चिंता बढ़ी

Hussain Ali

Publish: Sep 20, 2019 15:26 PM | Updated: Sep 20, 2019 15:26 PM

Indore

  • शहर में एक बार फिर डेंगू ने अपने पैर पसारना शुरू कर दिए हैं
  • गुजरात और राजस्थान में कांगो बुखार से मरीजों की मौत

इंदौर. शहर में एक बार फिर डेंगू ने अपने पैर पसारना शुरू कर दिए हैं। हाल ही में आई जांच रिपोर्ट में 10 नए लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई है, जिसके बाद इस वर्ष डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 50 पर पहुंच गया है। मरीजों की बढ़ती संख्या से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी चिंतित हैं, क्योंकि आने वाले दिनों में यह संख्या तेजी से बढ़ेगी। कारण है कि बार-बार बारिश होने से कई स्थानों और घरों के आसपास पानी भर गया है, जहां अब लार्वा पनप रहा है।

गौरतलब है कि इन दिनों मौसमी बीमारियां का दौर है। मौसमी बीमारियों के चलते शहर के अधिकांश अस्पतालों की ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ी हुई है। ओपीडी के साथ ही वायरल फीवर के मरीज भी बढ़ते जा रहे हैं। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा का कहना है कि डेंगू का जो एडीज मच्छर होता है वह साफ पानी में पनपता है। मच्छरों को बढऩे से रोकने के लिए हम सभी प्रयास कर रहे हैं, लेकिन सर्वप्रथम लोगों को इसके लिए जागरूक होना चाहिए। अपने घरों के आसपास कहीं भी ७ दिन से अधिक समय तक पानी एकत्रित न होने दें। खासकर पानी की टंकियों, छतों व घरों के आसपास रखें बर्तनों या सामान में पानी हो तो उसे खाली कर दें।

50 से ज्यादा लोगों को हुआ डेंगू, MP में कांगो बुखार का भी अलर्ट, डॉक्टरों की चिंता बढ़ी

प्रदेश में कांगो बुखार का अलर्ट

उधर, इन दिनों स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों की स्क्रीनिंग भी की जा रही है। कारण है कि कांगो बुखार को लेकर इन दिनों प्रदेशभर में अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि अब तक इस बुखार का कोई मरीज तो प्रदेश में सामने नहीं आया है, लेकिन इसके लक्षणों से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीज अस्पताल में आ रहे हैं तो उनका डाटा अलग रखा जा रहा है। जब तक वे पूरी तरह ठीक न हो जाए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने एक टीम इनका फॅालोअप लेने के लिए भी लगाई है।

गुजरात और राजस्थान में कांगो

गौरतलब है कि गुजरात और राजस्थान दोनों पड़ोसी राज्यों में कांगो बुखार से मरीजों की मौत हो चुकी हैं। इसके बाद प्रदेश सरकार ने भी इसको लेकर अलर्ट जारी किया था। सभी सीएमएचओ और सिविल सर्जनों को इसको संभालने के लिए अलर्ट जारी कर दिया था। इसके बाद से ही अधिकारी इसको लेकर सचेत हैं। सीएमएचओ का कहना है कि हमने निर्देश भी दिए हैं कि कांगो बुखार के संदिग्ध मरीज मिलने पर इनका इलाज केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के मुताबिक किया जाए। उन्होंने बताया कि चूंकि कांगो बुखार की गिरफ्त में आए गुजरात और राजस्थान से मध्यप्रदेश में बढ़ी संख्या में लोगों की हर दिन आवाजाही होती है इसलिए मध्यप्रदेश के सरकारी अफसरों को इस बीमारी को लेकर विशेष सतर्कता बरतने को कहा गया है।

50 से ज्यादा लोगों को हुआ डेंगू, MP में कांगो बुखार का भी अलर्ट, डॉक्टरों की चिंता बढ़ी

डेंगू के लक्षण इस प्रकार हैं

- डेंगू का सबसे प्रमुख लक्षण तेज बुखार है। डेंगू में 102-103 डिग्री तक बुखार आना आम बात है।
- डेंगू में ज्यादातर जोड़ों, मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द होता है।
- जी मिचलाना या नॉज़ीआ भी एक लक्षण है। डेंगू में आपको घबराहट महसूस होती है।
- डेंगू में छोटे लाल चकत्ते या रैशेस हो जाते हैं। इन रैशेस में कभी कभी खुजली भी होती है।
- ज्यादातर डेंगू से पीडि़त लोग आंख के पीछे दर्द की शिकायत करते हैं। यह दर्द आखें की मूवमेंट से बढ़ता है।

डेंगू से बचने के ये हैं उपाय

- एडीज मच्छरों के काटने से बचाव करना।
- घर या ऑफिस के आसपास पानी जमा न होने दें, गड्ढों को मिट्टी से भर दें
- रुकी हुई नालियों को साफ करें। अगर पानी जमा होने से रोकना मुमकिन नहीं है तो उसमें पेट्रोल या केरोसिन ऑयल डालें।
- रूम कूलरों, फूलदानों का सारा पानी हफ्ते में एक बार और पक्षियों को दाना-पानी देने के बर्तन को रोज पूरी तरह से खाली करें, उन्हें सुखाएं और फिर भरें।
- घर में टूटे-फूटे डिब्बे, टायर, बर्तन, बोतलें आदि न रखें। अगर रखें तो उलटा करके रखें।
- डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं, इसलिए पानी की टंकी को अच्छी तरह बंद करके रखें।