स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बस्ती के बच्चों के लिए कैलिफोर्निया से आएंगे कपड़े और खिलौने

Hussain Ali

Publish: Aug 14, 2019 14:32 PM | Updated: Aug 14, 2019 14:32 PM

Indore

- दान पात्र एप्लीकेशन के जरिए जरूरतमंदों को मिल रही खुशी,वृद्धाश्रम में पहुंचे कूलर तो युवाओं को मिल चुके हैं कम्प्यूटर

इंदौर. निजी संगठन द्वारा जरूरतमंद खासकर बस्तियों के बच्चों के लिए चलाए जा रहे मदद के अभियान में अब विदेश के लोग भी जुड़ रहे हैं। दान पात्र एप्लीकेशन के बारे में कैलिफोर्निया के लोगों को पता चला तो उन्होंने इस अभियान से जुड़े पुलिस अफसर से बात की और अब वे वहां से बच्चों के लिए कपड़े व खिलौने भेज रहे हैं। जल्द ही यह सामान स्थानीय टीम को मिलेगा, जो जरुरतमंदों में बांटा जाएगा।

must read : पुलिस की ‘दोस्ती’ का नजारा- रिमांड पर चल रहे एडवाइजरी कंपनी के मालिक की हो रही ऐसी खातिरदारी

शेयर ऑफ हैप्पीनेस फाउंडेशन के कर्ताधर्ताओं को कैलिफोर्नियों के लोगों ने संपर्क करने के बाद वहां से कपड़े और खिलौने भेजे हैं। फाउंडेशन से जुड़़े हुए लोगों ने जरूरतमंदों तक खुशियां पहुंचाने के लिए ठीक एक साल पहले 15 अगस्त 2018 को दान पात्र और गुदगुदी ऐप शुरू किया था। इस फाउंडेशन से जुड़ी एडीजी ऑफिस में पदस्थ एआईजी सोनाली दुबे के मुताबिक इस एक साल से कुछ कम समय में दान पात्र के जरिए साढ़े 5 हजार लोगों को जरूरत का सामान पहुंचाकर उनके जीवन को खुशी से भरने का प्रयास किया है। कुछ दिनों में करीब साढ़े 5 हजार लोगों तक और पहुंचने का लक्ष्य है।

must read : सांसद शंकर लालवानी ने बच्चों से कहा - जब भी निराश हों तिरंगे को देखें, ऊर्जा से भर जाएंगे

वृद्धाश्रम में पहुंचाएं कूलर, मेला लगाकर बांटे गिफ्ट

एआइजी दुबे के मुताबिक जरूरतमंद लोगों की मदद तो कई लोग करना चाहते हैं, लेकिन उचित फोरम नहीं होने से परेशानी होती है। फाउंडेशन से जुड़ी सॉफ्टवेयर इंजीनियर आकांक्षा गुप्ता व पूर्णिमा पेशकर के साथ मिलकर एक साल पहले दो एप्लीकेशन बनाई गई, ताकि इस तरह के लोगों से जुड़ा जा सके। गुदगुदी के जरिए बच्चों को विशेष आयोजन कर एक दिन खुशी देने का प्रयास होता है। धीरे-धीरे लोगों तक बात पहुंची तो संपर्क किया। सामान किसने दिया और किसे पहुंचा, इस सब के फोटो एप्लीकेशन पर रहते हैं। पिछले दिनों कुछ लोगों ने कूलर डोनेट किए तो उन्हें वृद्धाश्रम में लगवा दिया। कुछ लोगों ने कम्प्यूटर दिए तो वे होनहार बच्चों तक पहुंचाए गए। कृष्णपुरा छत्रियों पर एक मेला लगाया गया, जहां आने वाले लोगों को उनकी जरूरत के हिसाब सेे मुफ्त कपड़े, खिलौने आदि सामान दिए गए तो सभी के चेहरे खिल उठे।

एडीजी के जरिए कैलिफोर्निया में बसे लोगों ने किया संपर्क

इंदौर में एडीजी रहे अजय शर्मा के कार्यकाल में यह काम शुरू हुआ था। नारकोटिक्स एडीजी का काम देख रहे अजय शर्मा हाल ही में कैलिफोर्निया गए थे। वहां बसे इंडियन ने उनसे मिलकर दान पात्र के जरिए इंदौर की बस्तियों में रहने वाले बच्चों की मदद की इच्छा जताई। एआईजी सोनाली दुबे ने एडीजी को बताया, सोशल मीडिया के जरिए कैलिफोर्निया के लोगों से बात हुई। अब उन्होंने यह सारा सामान इंदौर के लिए रवाना किया है। इंदौर आते ही जिन लोगों को उसकी ज्यादा जरूरत है, उन्हें इसका वितरण किया जाएगा। एप्लीकेशन के एक साल पूरा होने पर 15 अगस्त को एक आयोजन कर उसके जरिए भी लोगों को मदद पहुंचाने की पूरी तैयारी की गई है।